विज्ञापन
Home  dharm  vrat  papmochani ekadashi 2024 know which yogas are being formed on papmochani ekadashi 2024 04 03

Papmochani Ekadashi 2024: पापमोचनी एकादशी पर बन रहे हैं कौन से योग जानिए

jeevanjali Published by: कोमल Updated Wed, 03 Apr 2024 12:44 PM IST
सार

Papmochani Ekadashi 2024: इस बार पापमोचिनी एकादशी का व्रत 5 अप्रैल, शुक्रवार को है। पापमोचिनी एकादशी का व्रत और विष्णु पूजा करने से पापों से मुक्ति मिलती है। इस बार पापमोचिनी एकादशी पर दो शुभ योग बन रहे हैं

पापमोचनी एकादशी
पापमोचनी एकादशी- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Papmochani Ekadashi 2024: इस बार पापमोचिनी एकादशी का व्रत 5 अप्रैल, शुक्रवार को है। पापमोचिनी एकादशी का व्रत और विष्णु पूजा करने से पापों से मुक्ति मिलती है। इस बार पापमोचिनी एकादशी पर दो शुभ योग बन रहे हैं, जिनमें पूजा करने से आपकी मनोकामनाएं पूरी हो सकती हैं। पापमोचिनी एकादशी के दिन पूजा के दौरान पापमोचिनी एकादशी व्रत की कथा पढ़ें, इससे व्रत का पुण्य लाभ मिलता है। चैत्र कृष्ण एकादशी पापमोचिनी एकादशी है।

विज्ञापन
विज्ञापन

पापमोचिनी एकादशी 2024 शुभ मुहूर्त और योग

चैत्र कृष्ण एकादशी तिथि आरंभ: 4 अप्रैल, गुरुवार, शाम 04:16 मिनट
चैत्र कृष्ण एकादशी तिथि की समाप्ति: 5 अप्रैल, शुक्रवार, दोपहर 01 बजकर 28 मिनट पर
विष्णु पूजा मुहूर्त: प्रातः 06:06 मिनट से प्रातः 10:49 मिनट तक
साध्य योग: सुबह 09:56 मिनट  तक
शुभ योग: प्रातः 09:56 मिनट तक संपूर्ण दिन
पापमोचिनी एकादशी का पारण समय: 6 अप्रैल, शनिवार, प्रातः 06:05 मिनट  से प्रातः 08:37 मिनट तक



पापमोचिनी एकादशी व्रत कथा

एक बार युधिष्ठिर ने भगवान श्रीकृष्ण से चैत्र कृष्ण एकादशी के बारे में बताने को कहा। इस पर भगवान श्रीकृष्ण ने कहा कि चैत्र कृष्ण एकादशी को पापमोचिनी एकादशी के नाम से जाना जाता है। जो मनुष्य इस व्रत को करता है उसके सभी पाप नष्ट हो जाते हैं। एक बार ब्रह्मदेव ने नारद मुनि को पापमोचिनी एकादशी का माहात्म्य बताया था, वही मैं तुमसे कहता हूँ।

विज्ञापन
पापमोचिनी एकादशी की कथा के अनुसार चित्ररथ नाम का एक वन था. देवराज इंद्र अन्य देवताओं तथा गंधर्व कन्याओं के साथ वहां विचरण करते थे। एक बार उस वन में एक तेजस्वी ऋषि तपस्या कर रहे थे। वह भगवान भोलेनाथ का भक्त था। एक बार कामदेव ने उनकी तपस्या भंग करने के लिए मंजुघोषा नामक अप्सरा को भेजा।

मंजुघोषा के रूप और सौन्दर्य को देखकर तेजस्वी ऋषि अपने पथ से भटक गये और उनकी तपस्या भंग हो गयी। वे उसके साथ यौन संबंध बनाने लगे. देखते ही देखते 57 वर्ष बीत गये। एक दिन मंजुघोषा ने मुनि से देवलोक वापस जाने की अनुमति मांगी। अचानक उन्हें आत्मज्ञान हुआ और उन्होंने मंजुघोषा पर अपनी तपस्या भंग करने और पथ से भटकने का आरोप लगाया और उसे पिशाचिनी होने का श्राप दे दिया।

यह भी पढ़ें- 
Shri Hari Stotram:जगज्जालपालं चलत्कण्ठमालं, जरूर करें श्री हरि स्तोत्र का पाठ

Parikrama Benefit: क्या है परिक्रमा करने का लाभ और सही तरीका जानिए

Kala Dhaga: जानें क्यों पैरों में पहनते हैं काला धागा, क्या है इसका भाग्य से कनेक्शन?

Astrology Tips: इन राशि वालों को कभी नहीं बांधना चाहिए लाल धागा, फायदे की जगह हो सकता है नुकसान
विज्ञापन