विज्ञापन
Home  astrology  mercury s transit in pisces from april 9 know what will be its effect on the 12 zodiac signs 2024 04 03

Budh Gochar 2024: बुध का 9 अप्रैल से मीन राशि में गोचर, जानें 12 राशियों पर क्या होगा इसका प्रभाव?

jeevanjali Published by: निधि Updated Wed, 03 Apr 2024 02:16 PM IST
सार

Budh Gochar 2024: वैदिक ज्योतिष में बुध को वाणी का कारक माना गया है। अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में बुध शुभ हो तो ऐसा व्यक्ति अपने वाणी कौशल और व्यापार में उत्तम होता है।

Budh Gochar 2024: बुध का 9 अप्रैल से मीन राशि में गोचर
Budh Gochar 2024: बुध का 9 अप्रैल से मीन राशि में गोचर- फोटो : JEEVANJALI

विस्तार

Budh Gochar 2024: वैदिक ज्योतिष में बुध को वाणी का कारक माना गया है। अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में बुध शुभ हो तो ऐसा व्यक्ति अपने वाणी कौशल और व्यापार में उत्तम होता है। इसके अलावा बुध लेखन में भी प्रसिद्धि देने वाला ग्रह है। अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में अगर बुध अशुभ हो तो ऐसा व्यक्ति धन का सही इस्तेमाल नहीं कर पाता और उसके भीतर बुद्धि का अभाव होता है। राजकुमार बुध अब 9 अप्रैल को मीन राशि में प्रवेश करेंगे और 10 मई तक यही रहने वाले है। बुध के इस गौचर का सभी 12 राशियों पर व्यापक असर होगा। अब आइये जानते है कि आपकी राशि पर इसका क्या प्रभाव होगा?

विज्ञापन
विज्ञापन

मेष राशि

 मेष राशि के जातकों के लिए ग्रहों के राजकुमार बुध तृतीय और छठे भाव के स्वामी होते हैं और बुध का गोचर आपके द्वादश स्थान में होने जा रहा है। इस भाव से व्यक्ति की विदेश यात्राएं, विदेशी संबंध, एकांत और आध्यात्म का विचार किया जाता है। इस भाव में विराजमान बुध की दृष्टि आपके छठे भाव पर होगी। मेष राशि के जातकों के लिए बुध का यह गोचर आर्थिक दृष्टिकोण से कुछ दिक्कत पैदा कर सकता है। बुध के गोचर के दौरान आपके खर्चों में अनावश्यक वृद्धि हो सकती है। इसके अलावा यात्राओं में भी आपका धन खर्च हो सकता है। कोर्ट कचहरी से जुड़े मामलों में आपको सावधानी बरतनी होगी और अपनी वाणी का इस्तेमाल भी सोच समझकर ही करना होगा।

वृषभ राशि

वृषभ राशि के जातकों के लिए बुध द्वितीय और पंचम भाव के स्वामी होते हैं और बुध का गोचर आपके लाभ स्थान में होने वाला है। इस भाव से व्यक्ति की इच्छा पूर्ति का ज्ञान किया जाता है। इस भाव में विराजमान बुध की दृष्टि आपके पंचम भाव पर होगी। वृषभ राशि के जातकों के लिए बुध का यह गोचर उनकी सभी इच्छाओं की पूर्ति करने वाला होगा। बुध के गोचर काल में आपको अपने मित्रों से सहायता प्राप्त होगी। आप अपने व्यापार का विस्तार करने में सक्षम होंगे। इसके अलावा आपके परिवार के सदस्यों के साथ आपका तालमेल अच्छा बना रहेगा। विद्यार्थी वर्ग के लिए बुध का यह गोचर बहुत अच्छा रहने वाला है। आपको प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता प्राप्त हो सकती है। आपके प्रेम संबंधों में भी निखार आने की संभावनाएं दिखाई पड़ रही है।

विज्ञापन

मिथुन राशि

 मिथुन राशि के जातकों के लिए ग्रहों के राजकुमार बुध प्रथम और चतुर्थ भाव के स्वामी होते हैं और बुध का गोचर आपके दशम भाव में होने जा रहा है। इस भाव से व्यक्ति के कार्य क्षेत्र और इसकी प्रसिद्धि का विचार किया जाता है। इस भाव में विराजमान बुध की दृष्टि आपके चतुर्थ भाव पर होगी। मिथुन राशि के जातकों के लिए बुध का यह गोचर उनके कार्य क्षेत्र के लिए बहुत अच्छा रहने वाला है। आपको अपने सीनियर्स के द्वारा सम्मान दिया जा सकता है। इसके अलावा आपको आपकी नौकरी में प्रमोशन भी प्राप्त हो सकता है। आपकी पारिवारिक परिस्थिति अनुकूल होंगी। इसके अलावा अगर आप शिक्षक हैं या व्यापार जगत से जुड़े हुए हैं तो भी यह बुध का गोचर आपके लिए अच्छे लाभ और प्रसिद्धि लेकर के आने वाला है। आपको समाज में अच्छा मान सम्मान प्राप्त होगा और यात्राओं से भी आपको लाभ प्राप्त होगा। आपकी बुआ से कोई आपको तोहफा भी प्राप्त हो सकता है।

कर्क राशि

कर्क राशि के जातकों के लिए ग्रहों के राजकुमार बुध तृतीय और द्वादश भाव के स्वामी होते हैं और अब बुध का गोचर आपके भाग्य स्थान में होने जा रहा है। इस भाव से व्यक्ति के धर्म, धार्मिक क्रियाकलाप, धार्मिक यात्राएं और गुरुओं का विचार किया जाता है। इस भाव में विराजमान बुध की दृष्टि आपके तृतीय भाव पर होगी। कर्क राशि के जातकों के लिए बुध का यह गोचर भाग्य की वृद्धि करने वाला और सफलता के रास्ते खोलने वाला होगा। मीडिया, कम्युनिकेशन और सिनेमा जगत में काम कर रहे लोगों के लिए बुध का यह गोचर किसी वरदान से कम नहीं है। इस दौरान आपको आपके भाग्य का पूरा साथ मिलेगा और धार्मिक यात्राओं और गुरुओं से आशीर्वाद के भी योग बने हुए हैं। भाई बहनों के साथ संबंधों में मधुरता आएगी और व्यापार वर्ग को भी बुध के गोचर से अच्छा फायदा होता हुआ दिखाई पड़ रहा है।

सिंह राशि

 सिंह राशि के जातकों के लिए ग्रहों के राजकुमार बुध धन स्थान और भाग्य स्थान के स्वामी होते हैं और अब बुध का गोचर आपके अष्टम भाव में होने जा रहा है। इस भाव से व्यक्ति के जीवन में अचानक से घटित होने वाली घटनाओं का विचार किया जाता है। इस भाव में विराजमान बुध की दृष्टि आपके द्वितीय भाव पर होगी। बुध के इस गोचर के कारण सिंह राशि के जातकों को स्वास्थ्य से जुड़ी कुछ समस्याएं परेशान कर सकती हैं। इसके अलावा ड्राइव करते समय आपको सावधानी बरतनी चाहिए। त्वचा संबंधी रोग आपको परेशान कर सकते हैं। ससुराल पक्ष से किसी भी प्रकार का आर्थिक लेन-देन अगर आप नहीं करेंगे तो आपके लिए अच्छा रहेगा। इस समय आपकी वाणी में थोड़ी कठोरता आ सकती है। आपको सलाह दी जाती है कि इस गोचर के दौरान अपने मित्रों पर अत्यधिक भरोसा ना करें।

कन्या राशि

कन्या राशि के जातकों के लिए ग्रहों के राजकुमार बुध प्रथम और दशम भाव के स्वामी होते हैं और अब उनका गोचर आपके सप्तम भाव में होने जा रहा है। इस भाव से व्यक्ति के वैवाहिक जीवन और साझेदारी का विचार किया जाता है। इस भाव में विराजमान बुध की दृष्टि आपके प्रथम भाव पर होगी। कन्या राशि के जातकों के लिए बुध का यह गोचर उनके पारिवारिक जीवन के लिए बहुत अनुकूल रहने वाला है। इसके अलावा आप काफी समय से अगर अपने किसी मित्र के साथ साझेदारी में कोई काम शुरू करना चाहते थे तो वह काम भी आपका शुरू हो सकता है। आपको कार्य के सिलसिले में विदेश भी भेजा जा सकता है। आपको आपके विदेशी संबंधों से फायदा होगा। इसके अलावा छात्र वर्ग के लिए भी बुध गोचर बहुत अच्छा रहेगा। किसी सरकारी परीक्षा में आपका चयन हो सकता है।

 

 

तुला राशि

तुला राशि के जातकों के लिए ग्रहों के राजकुमार बुध भाग्य और द्वादश भाव के स्वामी होते हैं और बुध का गोचर आपके छठे भाव से होने जा रहा है। इस भाव से व्यक्ति के रोग ऋण और शत्रु का विचार किया जाता है। इस भाव में विराजमान बुध की दृष्टि आपके द्वादश स्थान पर होगी। तुला राशि के जातकों के लिए बुध का यह गोचर उनकी नौकरी के लिए बहुत अच्छा रहने वाला है। इसके अलावा अगर आप अपनी कंपनी का विस्तार करने के लिए बैंक से लोन लेना चाहते हैं तो बुध के इस गोचर के दौरान आपका यह काम हो सकता है। जो विद्यार्थी अपनी उच्च शिक्षा की पढ़ाई पूरी करने के लिए विदेश जाना चाहते हैं उनके लिए रास्ते खुल सकते हैं। इसके अलावा कोई पुरानी बीमारी जो चली आ रही थी उसका खातमा हो सकता है। अगर आप नौकरी बदलना चाहते हैं

तो बुध का यह गोचर आपको अच्छी नौकरी प्राप्त करने में भी मदद कर सकता है। इस दौरान आध्यात्म की भावना भी आपके अंदर जागृत होगी।

वृश्चिक राशि

 वृश्चिक राशि के जातकों के लिए ग्रहों के राजकुमार बुध अष्टम और लाभ स्थान के स्वामी होते हैं और बुध का गोचर आपके पंचम भाव में होने जा रहा है। इस भाव से व्यक्ति की शिक्षा, बुद्धि, संतान और प्रेम का विचार किया जाता है। इस भाव में विराजमान बुध की दृष्टि आपके लाभ स्थान पर होगी। अष्टम भाव के स्वामी का गोचर पंचम भाव में होने से आपको प्रेम संबंधों में कुछ असफलताएं प्राप्त हो सकती हैं। बुध के इस गोचर के दौरान ऐसा हो सकता है कि आपके और आपके प्रेमी के बीच किसी मुद्दे को लेकर वाद विवाद की परिस्थिति बन जाए और आप दोनों के बीच के संबंध बिगड़ जाए। इसके अलावा संतान पक्ष को लेकर भी यह गोचर आपको कुछ तकलीफ दे सकता है। हालांकि आपके व्यापार की अगर बात करें तो बुध का यह गोचर आपको सफलता देने वाला रहेगा। अगर आप अपनी कंपनी का विस्तार करना चाहते हैं कुछ नई मशीन लगाना चाहते हैं या कुछ कर्मचारियों की भर्ती करना चाहते हैं तो बुध का यह गोचर आपके लिए अच्छा रहेगा।

धनु राशि

 धनु राशि के जातकों के लिए ग्रहों के राजकुमार बुध सप्तम और दशम भाव के स्वामी होते हैं और बुध का गोचर आपके चतुर्थ भाव में होने जा रहा है। इस भाव से व्यक्ति की मानसिक शक्ति और सुख सुविधाओं का ज्ञान किया जाता है। इस भाव में विराजमान बुध की दृष्टि आपके दशम भाव पर होगी। धनु राशि के जातकों को बुध का यह गोचर काफी अच्छा फायदा देने वाला रहेगा। आप अपनी पत्नी और परिवार के साथ कहीं बाहर घूमने जा सकते हैं। इसके अलावा आपकी पत्नी के व्यवहार से आपके परिवार के लोग बहुत सुखी और प्रसन्न महसूस करेंगे। अगर कार्य क्षेत्र की बात करें तो आपके कार्य स्थल पर भी बुध का यह गोचर आपको मान सम्मान की प्राप्ति करवाने वाला होगा। अगर आप काफी समय से नई नौकरी की तलाश कर रहे हैं तो आपकी तलाश बुध के इस गोचर के दौरान पूरी हो सकती है. इसके अलावा आपके घर में किसी मांगलिक कार्य का भी आयोजन बुध के इस गोचर के दौरान हो सकता है।

मकर राशि

 मकर राशि के जातकों के लिए ग्रहों के राजकुमार बुध छठे और भाग्य स्थान के स्वामी होते हैं और बुध का गोचर आपके तृतीय भाव में होने जा रहा है। इस भाव से व्यक्ति के साहस पराक्रम और भाई बहनों का विचार किया जाता है। इस भाव में विराजमान बुध की दृष्टि आपके नवम भाव पर होगी। मकर राशि के जातकों को बुध के इस गोचर के दौरान अपने कम्युनिकेशन से बहुत फायदा होगा। खासतौर से ऐसे लोग जो मीडिया लेखन और ग्लैमर जगत से जुड़े हैं उन्हें बुध का यह गोचर अच्छी प्रसिद्ध देने वाला रहेगा। इसके अलावा आपके भाग्य का सहयोग भी आपको प्राप्त होगा। बुध का यह गोचर भाई बहनों के बीच अगर कुछ मनमुटाव था तो उसे खत्म करने का काम भी कर सकता है। बुध के इस गोचर से आपको अपनी यात्राओं से फायदा होगा। आपके पिता और

आपके गुरु आपका सहयोग करने वाले होंगे और आपको अपने पिता की ओर से कुछ आर्थिक मदद भी प्राप्त हो सकती है।

कुम्भ राशि

 कुंभ राशि के जातकों के लिए ग्रहों के राजकुमार बुध पंचम और अष्टम भाव के स्वामी होते हैं और बुध का गोचर आपके द्वितीय भाव में होने जा रहा है। इस भाव से व्यक्ति के संचित धन, कुटुंब और वाणी का विचार किया जाता है। इस भाव में विराजमान बुध की दृष्टि आपके अष्टम भाव पर होगी। कुंभ राशि के जातकों के लिए बुध का यह गोचर उनके खर्चों में वृद्धि करने वाला होगा। इसके अलावा आपके प्रेम प्रसंग में भी आपको असफलता प्राप्त हो सकती है। विद्यार्थी वर्ग को शैक्षणिक गतिविधियों में उसे स्तर के परिणाम नहीं प्राप्त होंगे जिसकी आप उम्मीद कर रहे हैं। विद्यार्थी वर्ग को अपनी एकाग्रता में ध्यान लगाना होगा। इसके अलावा कुंभ राशि के जातकों को संतान पक्ष से भी कुछ कठिनाई महसूस हो सकती है। संतान के साथ कुछ चीजों पर आपके मतभेद उभर कर आ सकते हैं। कुंभ राशि के जातकों को अपने वैवाहिक जीवन में किसी भी प्रकार की तनाव की स्थिति को टालने की कोशिश करनी होगी और जीवनसाथी की सेहत का भी ख्याल रखिए।

मीन राशि

 मीन राशि के जातकों के लिए ग्रहों के राजकुमार बुध चतुर्थ और सप्तम भाव के स्वामी होते हैं और बुध का गोचर आपके प्रथम भाव में होने जा रहा है। इस भाव से व्यक्ति के व्यक्तित्व और उसकी आकर्षण शक्ति का ज्ञान किया जाता है। इस भाव में विराजमान बुध की दृष्टि आपके सप्तम भाव पर जा रही है। मीन राशि के जातकों के लिए यह गोचर बहुत अच्छा रहने वाला है। इस दौरान आप अपनी शिक्षा, अपनी बुद्धि और अपनी वाणी के प्रभाव से अपने काफी समय से अटके हुए कार्यों को पूरा करेंगे। इसके अलावा आप अगर अपनी कंपनी के विस्तार के लिए बैंक से लोन लेना चाह रहे थे तो आपको बैंक से पैसा भी प्राप्त हो सकता है। जिन लोगों की शादी नहीं हो रही है उनकी शादी का प्रस्ताव आ सकता है। आप अपने घर वालों को अपने प्रेमी से मिलवा सकते हैं। आपके प्रेम विवाह के योग भी इस समय बने हुए हैं। वैवाहिक जीवन भी आपका बहुत अच्छा रहेगा। आपकी पत्नी आपके लिए अनुकूल रहेगी और पत्नी की मदद से आपको कोई बड़ा कार्य भी प्राप्त हो सकता है। पत्नी के साथ कहीं बाहर घूमने के लिए भी आप जा सकते हैं।

यह भी पढ़ें- 
Shri Hari Stotram:जगज्जालपालं चलत्कण्ठमालं, जरूर करें श्री हरि स्तोत्र का पाठ

Parikrama Benefit: क्या है परिक्रमा करने का लाभ और सही तरीका जानिए

Kala Dhaga: जानें क्यों पैरों में पहनते हैं काला धागा, क्या है इसका भाग्य से कनेक्शन?

 

विज्ञापन