विज्ञापन
Home  astrology  first shani pradosh vrat of chaitra month on 6th april know the worship method and remedies 2024 04 02

Shani Pradosh Vrat 2024: 6 अप्रैल को चैत्र महीने का पहला शनि प्रदोष व्रत, जानें पूजा विधि और उपाय

jeevanjali Published by: निधि Updated Tue, 02 Apr 2024 03:57 PM IST
सार

Shani Pradosh Vrat 2024: त्रयोदशी व्रत यानि प्रदोष व्रत 06 अप्रैल, शनिवार को रखा जाएगा। इस बार त्रयोदशी तिथि शनिवार को पड़ रही है, जिससे विशेष संयोग बन रहे हैं।

Shani Pradosh Vrat 2024: त्रयोदशी व्रत यानि प्रदोष व्रत 06 अप्रैल
Shani Pradosh Vrat 2024: त्रयोदशी व्रत यानि प्रदोष व्रत 06 अप्रैल- फोटो : JEEVANJALI

विस्तार

Shani Pradosh Vrat 2024: त्रयोदशी व्रत यानि प्रदोष व्रत 06 अप्रैल, शनिवार को रखा जाएगा। इस बार त्रयोदशी तिथि शनिवार को पड़ रही है, जिससे विशेष संयोग बन रहे हैं। यदि त्रयोदशी व्रत शनिवार के दिन हो तो इसे शनि प्रदोष व्रत कहा जाता है। यह चैत्र महीने का पहला  शनि प्रदोष व्रत है, वैसे तो प्रदोष व्रत के दिन भगवान शंकर की पूजा करने की परंपरा है, लेकिन अगर प्रदोष व्रत शनिवार के दिन पड़ रहा है तो इस दिन भोले शंकर के साथ-साथ शनि देव की भी पूजा की जाती है दिन। जिसके कारण इस व्रत को शनि प्रदोष व्रत भी कहा जाता है। अगर आप इस शनि प्रदोष व्रत में शनि को मना लेंगे तो आने वाले साल में शनि आपकी परेशानियां कम कर देंगे। आइए आज जानते हैं इस दिन कौन से उपाय करने से लाभ मिलता है…

विज्ञापन
विज्ञापन
नौकरी संबंधित परेशानियां


अगर आपके जीवन में नौकरी संबंधी परेशानियां आ रही हैं तो शनि प्रदोष व्रत के दिन नाव की कील का छल्ला धारण करें। इस दिन सुबह-शाम हनुमान चालीसा का पाठ भी करना चाहिए।


शनि का अशुभ प्रभाव कम करने के लिए

शनि के अशुभ प्रभाव को कम करने के लिए मांस-मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए। इस दिन शनि मंत्र का जाप करने से भी शनि के अशुभ प्रभाव कम होते हैं।

विज्ञापन
मंत्र
ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः

दांपत्य जीवन संबंधित परेशानियां

वैवाहिक जीवन की समस्याओं को दूर करने के लिए इस दिन हनुमानजी के मंदिर जाएं और उन्हें सिन्दूर चढ़ाएं। इस दिन सुंदर कांड का पाठ करने से सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं और दांपत्य जीवन सुखमय हो जाता है।


व्यवसाय संबंधित दिक्कतें

अगर आपके व्यापार में कोई परेशानी आ रही है तो इस दिन भगवान शिव का अभिषेक करें। इस दिन शनि स्तोत्र का पाठ करने से भी परेशानियां कम होती हैं।

शनि साढ़ेसाती से पीड़ित लोग 

जो लोग शनि की साढ़े साती से पीड़ित है उन्हें इस दिन शनि महाराज को तेल चढ़ाना चाहिए। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार शनि को तेल चढ़ाने से ग्रह दोषों से मुक्ति मिलती है।

यह भी पढ़ें- 
Shri Hari Stotram:जगज्जालपालं चलत्कण्ठमालं, जरूर करें श्री हरि स्तोत्र का पाठ
Parikrama Benefit: क्या है परिक्रमा करने का लाभ और सही तरीका जानिए
Kala Dhaga: जानें क्यों पैरों में पहनते हैं काला धागा, क्या है इसका भाग्य से कनेक्शन?
Astrology Tips: इन राशि वालों को कभी नहीं बांधना चाहिए लाल धागा, फायदे की जगह हो सकता है नुकसान
विज्ञापन