विज्ञापन
Home  mythology  ram katha  valmiki ramayana ayodhya kand sarga 106 why did shri ram face a religious dilemma why did prince bharat insi

Valmiki Ramayana Ayodhya Kand sarga 106: राजकुमार भरत ने क्यों की वन में रहने की जिद, जानिए वजह

जीवांजलि धार्मिक डेस्क Published by: कोमल Updated Tue, 02 Jul 2024 06:05 PM IST
सार

Valmiki Ramayana Ayodhya Kand sarga 106: वाल्मीकि रामायण के पिछले लेख में आपने पढ़ा कि श्री राम भरत को आत्मा से जुड़ा ज्ञान देते है। राम भरत को शोक न करके राज्य को संभालने की बात कहते है और खुद वन में ही रहने की अनुमति अपनी माँ से मांगते है।

वाल्मीकि रामायण
वाल्मीकि रामायण- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Valmiki Ramayana Ayodhya Kand sarga 106: वाल्मीकि रामायण के पिछले लेख में आपने पढ़ा कि श्री राम भरत को आत्मा से जुड़ा ज्ञान देते है। राम भरत को शोक न करके राज्य को संभालने की बात कहते है और खुद वन में ही रहने की अनुमति अपनी माँ से मांगते है। इसके बाद, धर्मात्मा भरत ने मन्दाकिनी के तट पर प्रजावत्सल धर्मात्मा श्रीराम से कहा कि आप जैसा दूसरा कोई नहीं हो सकता है। कोई भी दुःख आपको व्यथित नहीं कर सकता। कितनी ही प्रिय बात क्यों न हो, वह आपको हर्षोत्फुल्ल नहीं कर सकती।जिसे आपके समान आत्मा और अनात्माका ज्ञान है, वही संकट में पड़ने पर भी विषाद नहीं कर सकता। 
विज्ञापन
विज्ञापन


आप देवताओं की भाँति सत्त्वगुण से सम्पन्न, महात्मा, सत्यप्रतिज्ञ, सर्वज्ञ, सबके साक्षी और बुद्धिमान् हैं। ऐसे उत्तम गुणों से युक्त और जन्म-मरण के रहस्य को जानने वाले आपके पास असह्य दुःख नहीं आ सकता। जब मैं परदेश में था, उस समय नीच विचार रखने वाली मेरी माता ने मेरे लिये जो पाप कर डाला, वह मुझे अभीष्ट नहीं है; अतः आप उसे क्षमा करके मुझ पर प्रसन्न हों। जिनके कुल और कर्म दोनों ही शुभ थे, उन महाराज दशरथ से उत्पन्न होकर धर्म और अधर्म को जानता हुआ भी मैं मातृवधरूपी लोकनिन्दित कर्म कैसे करूँ? 

मैं धर्म के बन्धन में बँधा हूँ, इसलिये इस पाप करने वाली एवं दण्डनीय माता को मैं कठोर दण्ड देकर मार नहीं डालता। पिताजी ने क्रोध, मोह और साहस के कारण ठीक समझ कर जो धर्म का उल्लङ्घन किया है, उसे आप पलट दें। जो पुत्र पिताकी की हुई भूल को ठीक कर देता है, वही लोक में उत्तम संतान माना गया है। जो इसके विपरीत बर्ताव करता है, वह पिताकी श्रेष्ठ संतति नहीं है। मैं बुद्धि और गुण दोनों से हीन हूँ, बालक हूँ तथा मेरा स्थान आपसे बहुत छोटा है; अतः मैं आपके बिना जीवन-धारण भी नहीं कर सकता, राज्य का पालन तो दूरकी बात है। 
विज्ञापन


जैसे महादेवजी सब प्राणियों पर अनुग्रह करते हैं, उसी प्रकार आप भी अपने बन्धु-बान्धवों पर कृपा कीजिये। यदि आप मेरी प्रार्थना को ठुकराकर यहाँ से वन को ही जायँगे तो मैं भी आपके साथ जाऊँगा। उस समय ऋत्विज् पुरवासी, भिन्न-भिन्न समुदाय के नेता और माताएँ अचेत-सी होकर आँस बहाती हुई पूर्वोक्त बातें कहने वाली भरत की भूरि-भूरि प्रशंसा करने लगी और सबने उनके साथ ही योग्यतानुसार श्रीरामजी के सामने विनीत होकर उनसे अयोध्या लौट चलने की याचना की।
विज्ञापन