विज्ञापन
Home  dharm  who is shukrana guruji chhatarpur wale guruji who is chhatarpur wale guruji know how to see him

Chhatarpur Wale Guruji: कौन हैं छतरपुर वाले गुरु जी, जानिए कैसे करें इनके दर्शन

जीवांजलि धर्म डेस्क Published by: निधि Updated Mon, 08 Jul 2024 03:59 PM IST
सार

Chhatarpur Wale Guruji: वैसे तो भारत में कई आध्यात्मिक गुरु हैं, जो दुनिया को आध्यात्म से जोड़ने का काम करते हैं। हर आध्यात्मिक गुरु का अपना गुण होता है और हर कोई अपने-अपने तरीके से लोगों को भक्ति और मोक्ष का मार्ग दिखाता है।

Chhatarpur Wale Guruji:
Chhatarpur Wale Guruji:- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Chhatarpur Wale Guruji: वैसे तो भारत में कई आध्यात्मिक गुरु हैं, जो दुनिया को आध्यात्म से जोड़ने का काम करते हैं। हर आध्यात्मिक गुरु का अपना गुण होता है और हर कोई अपने-अपने तरीके से लोगों को भक्ति और मोक्ष का मार्ग दिखाता है। कुछ गुरु सीख लेने के बाद यह काम करते हैं, जबकि कुछ लोगों में यह गुण जन्म से ही होता है। ऐसे ही एक थे गुरु जी। जी हां, हम बात कर रहे हैं दिल्ली के छतरपुर के गुरु जी की, जिनके प्रति लोगों में अपार भक्ति और श्रद्धा है। 
विज्ञापन
विज्ञापन


भारत में ऐसे कई संत हैं जो दुनिया को आध्यात्म से जोड़ने का काम करते हैं। इन्हीं में से एक हैं छतरपुर, दिल्ली के गुरु जी, जो मानवता को आशीर्वाद देने और जगाने के लिए धरती पर आए थे। उनका जन्म 7 जुलाई 1954 को पंजाब के मलेरकोटला के डुगरी गांव में हुआ था। गुरु जी ने अपने जीवन के शुरुआती दौर डुगरी गांव में ही बिताए। उन्होंने स्कूल और कॉलेज की पढ़ाई की और आखिरकार अर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञान में डिग्री हासिल की। उन्हें जानने वाले कहते हैं कि बचपन से ही उनमें आध्यात्म की चिंगारी थी। इस चिंगारी को पूरी तरह से जलने में ज्यादा समय नहीं लगा।

दानवीर के नाम से प्रसिद्ध गुरुजी ने संकट के समय हमेशा अपने भक्तों का साथ दिया। उनके वचन हैं कि उनका आशीर्वाद उनके भक्तों पर अनेक जन्मों तक बना रहेगा। गुरुजी की विशेषता यह थी कि उन्होंने अपने जीवनकाल में कभी किसी से धन या किसी वस्तु की अपेक्षा नहीं की और न ही अपने भक्तों से कभी किसी दान की इच्छा प्रकट की, जिसके कारण लोगों की उनके प्रति अटूट आस्था और भक्ति बढ़ती चली गई।
विज्ञापन

मार्गदर्शन देने वाले गुरुजी

हर व्यक्ति के जीवन में गुरु का विशेष महत्व होता है। चाहे हम दुविधाओं, समस्याओं या उत्साह में हों। गुरु के वचन और उनका मार्गदर्शन हमारे जीवन को गति और सही दिशा देते हैं। गुरु का स्थान उस मार्गदर्शक की तरह होता है जो अंधकार भरे रास्तों को भी रोशन कर देता है और असंभव को संभव बनाकर अपने भक्त को सुखमय जीवन प्रदान करता है। हर युग में, हर सदी में गुरु और पीर पैगंबर पैदा हुए, जो समाज सुधार के काम में लगे रहे और लोगों को छोटे-बड़े और ऊंच-नीच के भेदभाव से मुक्ति दिलाने का काम किया। इसी तरह छतरपुर के गुरुजी भी अपने भक्तों को बेहद प्रिय हैं।

सत्संग में लाखों की भीड़

गुरुजी की कृपा धरती पर बरसने लगी और लाखों लोगों के दुख दूर होने लगे। जालंधर, चंडीगढ़, पंचकूला और नई दिल्ली समेत कई जगहों पर उनके सत्संग होने लगे, जहाँ बड़ी संख्या में भक्त जुटने लगे। भारत और दुनिया के दूसरे हिस्सों से भी भक्त उनका आशीर्वाद लेने आने लगे।

कैसे करें छतरपुर वाले गुरुजी के दर्शन

गुरुजी का आश्रम दिल्ली के छतरपुर इलाके से थोड़ी दूरी पर स्थित है। वहां हर दिन हजारों की संख्या में भक्त पहुंचते हैं और गुरुजी के आश्रम में अपनी हाजिरी लगाते हैं। अमीर हो या गरीब, हर कोई पूरी श्रद्धा के साथ गुरुजी के दर्शन करने वहां पहुंचता है। अगर आप छतरपुर गुरुजी के दर्शन करने के लिए उनके आश्रम जाना चाहते हैं तो आप मेट्रो, ऑटो या बस से आसानी से वहां पहुंच सकते हैं। उसके बाद आप वहां से ऑटो से उनके आश्रम पहुंच सकते हैं। वहां गुरुजी के आश्रम के बारे में सभी जानते हैं और वहां जाने के लिए ऑटो की लाइन लगी रहती है।

यह भी पढ़ें:-
Unluck Plants for Home: शुभ नहीं, बल्कि अशुभ माने जाते हैं ये पौधे ! घर में लगाने से आती है दरिद्रता
What is Karma Akarama Vikarma : कर्म अकर्म और विकर्म क्या है? जानिए
Panchmukhi Shiv: भगवान शिव के क्यों है पांच मुख? जानिए इन 5 मुख का रहस्य

 
विज्ञापन