विज्ञापन
Home  dharm  vrat  sawan 2024 puja vidhi offer these things to shivling in the month of sawan

Sawan Puja Vidhi: सावन के महीने में करना चाहते हैं भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न? तो शिवलिंग पर चढ़ाएं ये चीजें

जीवांजलि धर्म डेस्क Published by: निधि Updated Fri, 05 Jul 2024 01:55 PM IST
सार

Sawan 2024: इस बार सावन की शुरुआत और अंत दोनों सोमवार को हो रहा है इसलिए कुल 5 व्रत आएंगे। सावन 22 जुलाई सोमवार से शुरू होकर 19 अगस्त सोमवार को ही पूर्ण होने जा रहा है।

Sawan Puja Vidhi
Sawan Puja Vidhi- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Sawan 2024: भगवान शिव के भक्तों के लिए सावन का महीना बेहद पवित्र माह होता है। इस पूरे महीने शिव की सेवा करने से शिव लोक की प्राप्ति हो जाती है। इस बार सावन की शुरुआत और अंत दोनों सोमवार को हो रहा है इसलिए कुल 5 व्रत आएंगे। सावन 22 जुलाई सोमवार से शुरू होकर 19 अगस्त सोमवार को ही पूर्ण होने जा रहा है। आज इस लेख में हम आपको, यह बताने वाले है कि शिवलिंग पर किन किन चीजों को अर्पित करना चाहिए और उनका क्या फल होता है। 
विज्ञापन
विज्ञापन

सावन में भगवान शिव को अर्पित करें ये चीजें

शिवलिंग पर चढ़ाए अलसी और बेल के फूल

अलसी के फूलों से महादेव जी का पूजन करने वाला पुरुष भगवान विष्णु को प्रिय होता है। शमी पत्रों से पूजा करके मनुष्य मोक्ष को प्राप्त कर लेता है। बेला के फूल चढ़ाने पर भगवान शिव शुभलक्षणा पत्नी प्रदान करते हैं। जूही के फूलों से पूजन करने पर अन्न की कमी नहीं होती। कनेर के फूलों से वस्त्र की प्राप्ति होती है। सेदुआरी या सेफालीका से शिव का पूजन किया जाए तो मन निर्मल होता है। 

 भगवान शिव की पूजा करते समय जरूर करें ये काम

एक लाख विल्वपत्र चढ़ाने पर मनुष्य अपनी सारी काम्य वस्तुएं प्राप्त कर लेता है। श्रृंगारहार- हर सिंगार के फूलों से पूजा करने पर सुख संपत्ति की वृद्धि होती है। वर्तमान में पैदा होने वाले फूल के शिव की सेवा में समर्पित किया जाए तो मोक्ष देने वाले होते हैं। राई के फूल शत्रु को मृत्यु प्रदान करने वाले होते हैं। इन फूलों को 1-1 लाख की संख्या में शिव के ऊपर चढ़ाया जाए तो भगवान अतुल फल देते हैं। चम्पा और केवडे को छोड़कर सभी फूल भगवान शिव को चढ़ाए जा सकते हैं।

महादेव के साथ मां लक्ष्मी भी होगी प्रसन्न

महादेव जी के ऊपर चावल चढ़ाने से मनुष्य की लक्ष्मी बढ़ती है। यह चावल अखंडित होने चाहिए और उत्तम भक्ति भाव से शिव के ऊपर चढ़ाना चाहिए। शत रुद्रीय यंत्र से, रुद्री के 11 पाठों से, रुद्र के नाम से, पुरुष सूक्त से, छः ऋचा वाले रूद्र सूक्त से, महामृत्युंजय मंत्र से, श्री गायत्री मंत्र से अथवा शिव के शास्त्रोक्त नामों के आधार पर बने हुए मंत्रों से आदि मे प्रणव व अन्त मे नमः द्वारा शिव की पूजा करनी चाहिए। सुख और संतान की वृद्धि के लिए जलधारा उत्तम बताई गई है। वंश का विस्तार होता है।
विज्ञापन

सावन सोमवार का महत्व

हिंदू धर्म में सावन का महीना अत्यंत पवित्र माना जाता है। इस पूरे माह में भोलेनाथ के भक्त शिव जी को प्रसन्न करने और उनकी कृपा पाने के लिए विधि-विधान से पूजा करते हैं। साथ ही कन्या राशि वालों के लिए सोलह सोमवार का व्रत भी किया जाता है।

यह भी पढ़ें:-
Unluck Plants for Home: शुभ नहीं, बल्कि अशुभ माने जाते हैं ये पौधे ! घर में लगाने से आती है दरिद्रता
What is Karma Akarama Vikarma : कर्म अकर्म और विकर्म क्या है? जानिए
Panchmukhi Shiv: भगवान शिव के क्यों है पांच मुख? जानिए इन 5 मुख का रहस्य

विज्ञापन