विज्ञापन
Home  dharm  vrat  sawan 2024 follow these rules during the fast of sawan somvar importance of sawan somvar sawan katha

Sawan 2024: सावन सोमवार के व्रत में इन नियमों का जरूर करें पालन

जीवांजलि धर्म डेस्क Published by: निधि Updated Thu, 11 Jul 2024 06:30 AM IST
सार

Sawan 2024: सावन का पवित्र महीना इस साल 22 जुलाई 2024 दिन सोमवार से होगा। सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा की जाती है।

Sawan 2024: 
Sawan 2024: - फोटो : jeevanjali

विस्तार

Sawan 2024: सावन का पवित्र महीना इस साल 22 जुलाई 2024 दिन सोमवार से होगा। सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा की जाती है। सावन में विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र और सौभाग्य के लिए सावन सोमवार का व्रत रखती हैं। विवाहित महिलाओं के अलावा अविवाहित महिलाएं भी पूरे महीने पार्वती और शिव की पूजा करती हैं और 16 सोमवार का व्रत भी रखती हैं। मान्यता है कि जो भी व्यक्ति सावन के महीने में सोमवार का व्रत रखता है, उसका विवाह जल्द होता है। साथ ही विवाह में आ रही रुकावटें भी दूर होती हैं। आइए जानते हैं सावन सोमवार व्रत करते समय क्या करना चाहिए।
विज्ञापन
विज्ञापन


- सावन के महीने में हमेशा की अपेक्षा जल्दी उठना चाहिए।
- सुबह जल्दी उठकर दैनिक कार्य करने के बाद नहाने के पानी में गंगाजल की कुछ बूंदें डालकर स्नान करना चाहिए।
- स्नान के बाद सूर्य देव को जल चढ़ाना न भूलें और जल में हल्दी और अक्षत भी डालें।
- इसके बाद शिवलिंग पर जल और गंगाजल चढ़ाएं।
- विशेष मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए गंगाजल के अलावा दूध, दही, शहद, घी आदि से अभिषेक किया जाता है।
- जलाभिषेक करते समय ओम नमः शिवाय मंत्र का निरंतर जाप करना चाहिए।
- पूजन सामग्री में सफेद फूल, बिल्व पत्र, मदार के फूल, शमी के पत्ते, भांग और धतूरा शामिल करना चाहिए।
- पूजन करते समय जाप करना भी बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। इसलिए महामृत्युंजय मंत्र, भगवान शिव के पंचाक्षरी मंत्र या अन्य मंत्रों का निरंतर जाप करें।
- भगवान शिव की पूजा माता पार्वती के साथ करनी चाहिए।
- पूजा के अंत में शिव आरती या शिव चालीसा का पाठ जरूर करें।
विज्ञापन

सावन सोमवार का महत्व (Importance of Sawan Somwar)

सावन के सोमवार को भगवान शिव की विशेष पूजा की जाती है। इस साल सावन में अद्भुत संयोग बन रहा है। श्रावण मास की शुरुआत सोमवार से हो रही है और इसका समापन भी सोमवार को ही होगा। इस बार सावन में पांच सोमवार पड़ रहे हैं। पहला सोमवार 22 जुलाई, दूसरा 29 जुलाई, तीसरा 05 अगस्त, चौथा 12 अगस्त  और पांचवां व अंतिम सोमवार 19 अगस्त को है। इसी दिन सावन माह का समापन भी होगा।

सावन कथा (Sawan Katha)

धार्मिक मान्यता के अनुसार सावन सोमवार को भगवान शिव की पूजा करने से जीवन में आने वाले सभी तरह के कष्टों से मुक्ति मिलती है। भगवान शंकर जी का जलाभिषेक करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। पौराणिक कथा के अनुसार कहा जाता है कि सृष्टि को बचाने के लिए शिव ने देवासुर संग्राम में समुद्र मंथन से निकला विष पी लिया था। इससे उनका शरीर बहुत गर्म हो गया था जिससे शिव को बहुत कष्ट होने लगा था।
विज्ञापन