विज्ञापन
Home  dharm  vrat  mata katyayani worship mother katyayani with this method on the sixth day of navratri know the puja mantra

Mata Katyayani: नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की इस विधि से करें पूजा,जानें पूजा मंत्र और पूजा विधि

jeevanjali Published by: कोमल Updated Sat, 13 Apr 2024 04:56 PM IST
सार

Mata Katyayani: नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है। मां कात्यायनी देवी दुर्गा का छठा स्वरूप हैं। मां कात्यायनी का नाम महर्षि कात्यायन के नाम पर रखा गया है। महर्षि कात्यायन ने मां दुर्गा की कठोर तपस्या की थी।

नवरात्रि 2024
नवरात्रि 2024- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Mata Katyayani: नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है। मां कात्यायनी देवी दुर्गा का छठा स्वरूप हैं। मां कात्यायनी का नाम महर्षि कात्यायन के नाम पर रखा गया है। महर्षि कात्यायन ने मां दुर्गा की कठोर तपस्या की थी। मां दुर्गा उनकी तपस्या से प्रसन्न हुईं और उन्हें दर्शन दिए। मां दुर्गा ने महर्षि कात्यायन को वरदान दिया कि वे उनकी पुत्री के रूप में जन्म लेंगी। मां कात्यायनी का जन्म महर्षि कात्यायन के घर हुआ था। मां कात्यायनी देवी सिंह पर सवार हैं और उनके चार हाथ हैं। उनके हाथों में तलवार, त्रिशूल, कमल का फूल और वरदान मुद्रा है। मां कात्यायनी देवी को शक्ति और साहस की देवी माना जाता है। मां कात्यायनी की पूजा करने से भक्तों को शक्ति, साहस, बुद्धि, और विद्या प्राप्त होती है।
विज्ञापन
विज्ञापन

पूजा विधि

सुबह जल्दी उठकर स्नान करें और स्वच्छ वस्त्र धारण करें।
पूजा स्थान को साफ करें और मां कात्यायनी की प्रतिमा स्थापित करें।
मां कात्यायनी को पीले रंग का वस्त्र, पीले फूल, फल, मिठाई, और सुगंधित धूप-दीप अर्पित करें।
मां कात्यायनी का षोडशोपचार पूजन करें।
मां कात्यायनी के बीज मंत्र का जाप करें:
ॐ क्लीं श्रीं त्रिनेत्रायै नमः
मां कात्यायनी की आरती करें।
प्रसाद वितरित करें।

मां कात्यायनी मंत्र

1- 'ॐ ह्रीं नम:।।'

चन्द्रहासोज्जवलकराशार्दुलवरवाहना।

कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी।।

ॐ देवी कात्यायन्यै नमः॥

2- कात्यायनी महामाये , महायोगिन्यधीश्वरी।

नन्दगोपसुतं देवी, पति मे कुरु ते नमः।।


मां कात्यायनी की पूजा क्यों करें:

मां कात्यायनी को शक्ति और साहस की देवी माना जाता है। मां कात्यायनी की पूजा करने से भक्तों को शक्ति, साहस, बुद्धि, और विद्या प्राप्त होती है। मां कात्यायनी की पूजा करने से भक्तों के सभी कष्ट दूर होते हैं और उन्हें मनोवांछित फल प्राप्त होता है।

विज्ञापन
मां कात्यायनी की पूजा करने के लाभ 
शक्ति और साहस में वृद्धि
बुद्धि और विद्या की प्राप्ति
कष्टों का निवारण
मनोवांछित फल की प्राप्ति

नवरात्रि के छठे दिन क्या ज्योतिष उपाय करने चाहिए 

- मां कात्यायनी के बीज मंत्र का 108 बार जाप करें।
- मां कात्यायनी के मंदिर में जाकर दर्शन करें।
- गाय को गुड़ और चना दान करें।
- पीले रंग के कपड़े पहनें।
-  पीले रंग के फूलों की माला पहनें।
-  पीले रंग के रत्न पहनें। छठे दिन गाय को हरा चारा, ब्राह्मणों को भोजन, और कन्याओं को फल और मिठाई दान करें। इन उपायों को करने से मां कात्यायनी की कृपा प्राप्त होगी और आपकी मनोकामनाएं पूर्ण होंगी। 
नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा विधि का पालन करके भक्त मां कात्यायनी की कृपा प्राप्त कर सकते हैं।

नवरात्रि की शुभकामनाएं!
विज्ञापन