विज्ञापन
Home  dharm  vrat  maa siddhidatri worship maa siddhidatri with this method on the ninth day of navratri

Maa Siddhidatri: नवरात्रि के नौवें दिन मां सिद्धिदात्री की इस विधि से करें पूजा, जानें पूजा मंत्र और पूजा विधि

jeevanjali Published by: कोमल Updated Tue, 16 Apr 2024 04:07 PM IST
सार

Maa Siddhidatri: नवरात्रि का नौवां दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा के लिए समर्पित होता है। मां सिद्धिदात्री को सभी सिद्धियों की देवी माना जाता है। इस दिन भक्त मां सिद्धिदात्री की पूजा कर उनसे जीवन में सफलता, ज्ञान, की कामना करते हैं। 

नवरात्रि 2024
नवरात्रि 2024- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Maa Siddhidatri: नवरात्रि का नौवां दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा के लिए समर्पित होता है। मां सिद्धिदात्री को सभी सिद्धियों की देवी माना जाता है। इस दिन भक्त मां सिद्धिदात्री की पूजा कर उनसे जीवन में सफलता, ज्ञान, और सभी प्रकार की सिद्धियां प्राप्त करने की कामना करते हैं। मां सिद्धिदात्री की कथा के अनुसार, जब भगवान शिव ने मां सिद्धिदात्री की तपस्या करी थी, तब उन्होंने मां से वरदान मांगा था कि वे उन्हें आठ सिद्धियां प्रदान करें। मां सिद्धिदात्री ने भगवान शिव की तपस्या से प्रसन्न होकर उन्हें आठ सिद्धियां प्रदान की थीं। इन सिद्धियों के बल पर भगवान शिव ने देवताओं के शत्रुओं का नाश किया था। मां सिद्धिदात्री की पूजा करने से भक्तों को जीवन में सफलता, ज्ञान, और सभी प्रकार की सिद्धियां प्राप्त होती हैं। मां की पूजा करने से मन को शांति और आनंद प्राप्त होता है। मां की पूजा करने से सभी प्रकार के कष्टों से मुक्ति मिलती है। मां सिद्धिदात्री का स्वरूप अत्यंत सुंदर और शक्तिशाली है। मां के चार हाथ हैं। मां का दाहिना ऊपरी हाथ वरदान मुद्रा में है, और दाहिना निचला हाथ कमल पुष्प धारण किए हुए है। मां का बायां ऊपरी हाथ त्रिशूल धारण किए हुए है, और बायां निचला हाथ अभय मुद्रा में है। मां सिद्धिदात्री सिंह पर सवार हैं।

विज्ञापन
विज्ञापन

पूजा विधि:

सुबह जल्दी उठकर स्नान करें और स्वच्छ वस्त्र पहनें।
एक चौकी या आसन बिछाकर उस पर कलश स्थापित करें।
मां सिद्धिदात्री की प्रतिमा या चित्र स्थापित करें।
मां को फूल, फल, मिठाई, और दीप अर्पित करें।
मां सिद्धिदात्री का षोडशोपचार पूजन करें।
मां सिद्धिदात्री के मंत्रों का जाप करें।
आरती करें और प्रसाद वितरित करें।

मां सिद्धिदात्री का मंत्र:

"ॐ देवी सिद्धिदात्र्यै नमः"

मां सिद्धिदात्री की पूजा क्यों करें:

मां सिद्धिदात्री सभी सिद्धियों की देवी हैं।
मां की पूजा करने से जीवन में सफलता, ज्ञान, और सभी प्रकार की सिद्धियां प्राप्त होती हैं।
मां की पूजा करने से मन को शांति और आनंद प्राप्त होता है।
मां की पूजा करने से सभी प्रकार के कष्टों से मुक्ति मिलती है।

नवरात्रि के नौवें दिन कुछ विशेष बातें:

इस दिन बैंगनी रंग के कपड़े पहनना शुभ माना जाता है।
इस दिन कन्या पूजन का विशेष महत्व है।
इस दिन दान-पुण्य करना भी शुभ माना जाता है।

नवरात्री के नवे दिन करें ये उपाय 

अगर आप नवरात्रि के 9 दिन व्रत नहीं रख पाएं हो तो महानवमी पर व्रत कर देवी को लाल चुनरी ओढ़ाएं, एक लौंग, इलायची और सिक्का पान के पत्ते पर रखकर माता को अर्पित करें. कहते हैं इससे 9 दिन के व्रत का फल मिलता है साथ ही घर में बरकत आती है.
विज्ञापन
साथ ही 
नवरात्रि के नौवें दिन, कन्या पूजन का विशेष महत्व होता है। नौ कन्याओं को भोजन कराएं और उन्हें दक्षिणा दें।
इस दिन, गाय को हरा चारा खिलाना भी बहुत शुभ माना जाता है।
यदि आप धन-समृद्धि प्राप्त करना चाहते हैं, तो इस दिन माता लक्ष्मी की भी पूजा करें।
यदि आप शिक्षा में सफलता प्राप्त करना चाहते हैं, तो इस दिन माता सरस्वती की भी पूजा करें।
यदि आप स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करना चाहते हैं, तो इस दिन माता दुर्गा को काले चने का भोग लगाएं।
यदि आप विवाह में बाधाओं का सामना कर रहे हैं, तो इस दिन माता पार्वती की पूजा करें और उन्हें लाल चूड़ियां अर्पित करें।

यह भी ध्यान रखें कि माता की कृपा प्राप्त करने का सबसे अच्छा तरीका है भक्ति और सदाचार। यदि आप माता की भक्ति करते हैं और सदाचारी जीवन जीते हैं, तो माता आपके जीवन में सुख-समृद्धि और खुशियां लाएंगी।

नवरात्रि की शुभकामनाएं!
विज्ञापन