विज्ञापन
Home  dharm  vrat  jaya parvati vrat 2024 date start and end date know the date pooja vidhi and significance of jaya parvati vrat

Jaya Parvati Vrat 2024: कब है जया पार्वती व्रत? जानें तिथि, पूजा-विधि और महत्व

जीवांजलि धर्म डेस्क Published by: निधि Updated Tue, 09 Jul 2024 03:44 PM IST
सार

Jaya Parvati Vrat Date 2024: पंचांग के अनुसार जया पार्वती व्रत आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि से शुरू होकर कृष्ण पक्ष की तृतीया तक चलता है। 5 दिवसीय जया पार्वती व्रत इस बार गुरुवार, 18 जुलाई से बुधवार, 24 जुलाई 2024 तक चलेगा।

Jaya Parvati Vrat 2024 Puja Vidhi:जया पार्वती व्रत 2024 पूजा विधि
Jaya Parvati Vrat 2024 Puja Vidhi:जया पार्वती व्रत 2024 पूजा विधि- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Jaya Parvati Vrat 2024 Puja Vidhi: आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को जया पार्वती व्रत रखा जाता है। इस साल यह व्रत 18 जुलाई, गुरुवार को पड़ रही है। हर साल जया पार्वती या विजया व्रत आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष से शुरू होकर कृष्ण पक्ष की तृतीया तिथि को समाप्त होता है। सनातन धर्म में इस व्रत को बहुत ही शुभ माना जाता है। इस व्रत में माता पार्वती और भगवान शिव की पूजा की जाती है। जया पार्वती व्रत करने से महिलाओं को पुत्र प्राप्ति का वरदान मिलता है और माता पार्वती के आशीर्वाद से अखंड सौभाग्य का वरदान मिलता है। जया पार्वती व्रत विशेष रूप से गुजरात में मनाया जाता है। आइए जानते हैं कि इस बार जया पार्वती व्रत की तिथि, पूजा विधि और महत्व के बारे में। 
विज्ञापन
विज्ञापन

जया पार्वती व्रत 2024 तिथि (Jaya Parvati Vrat Date 2024) 

पंचांग के अनुसार जया पार्वती व्रत आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि से शुरू होकर कृष्ण पक्ष की तृतीया तक चलता है। 5 दिवसीय जया पार्वती व्रत इस बार गुरुवार, 18 जुलाई से बुधवार, 24 जुलाई 2024 तक चलेगा। 

जया पार्वती व्रत 2024 शुभ मुहूर्त (Jaya Parvati Vrat 2024 Auspicious Time)

जयापार्वती व्रत शुक्रवार, जुलाई 19, 2024 को

जयापार्वती प्रदोष पूजा मूहूर्त - 07:19 पी एम से 09:22 पी एम
विज्ञापन

अवधि - 02 घण्टे 03 मिनट

जया पार्वती व्रत बुधवार, जुलाई 24, 2024 को समाप्त

त्रयोदशी तिथि प्रारम्भ - जुलाई 18, 2024 को 08 बजकर 44 मिनट पर  पी एम बजे

त्रयोदशी तिथि समाप्त - जुलाई 19, 2024 को 07 बजकर 41 मिनट पर पी एम बजे

जानिए जय पार्वती व्रत का महत्व (Jaya Parvati Vrat Significance) 

जया पार्वती व्रत को कई जगह पर विजया व्रत के नाम से भी जाना जाता है। यह व्रत मुख्य रूप से गुजरात में मनाया जाता है।  इस व्रत को  विवाहित और अविवाहित लड़कियां दोनों ही रखती हैं। जया पार्वती व्रत में देवी पार्वती और शिव की पूजा की जाती है। यह व्रत बहुत कठिन होता है और लगातार पांच दिनों तक किया जाता है। सभी विवाहित महिलाएं अपने वैवाहिक जीवन को सुखी बनाए रखने के लिए जया पार्वती व्रत रखती हैं और अविवाहित लड़कियां भगवान शिव की तरह वर की प्राप्ति के लिए पूरी श्रद्धा से जया पार्वती व्रत रखती हैं।

जय पार्वती व्रत की विधि  (Jaya Parvati Vrat Puja Vidhi) 

- आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी के दिन सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्त्रियां सबसे पहले स्नान करके मंदिर या फिर पूजा स्थल को अच्छी तरह से साफ कर लें। 
- उसके बाद भगवान भोलेनाथ और माता पार्वती की प्रतिमा  या फिर चित्र को स्थापित करके उस पर रोली, चंदन, फूल चढ़ाकर पूजा करती हैं। 
- नारियल, अनार तथा अन्य सामग्री चढ़ाकर विधि विधान से पूजा करें।  
- इसके बाद  ॐ नमः शिवाय मंत्र का जाप करते हुए माता पार्वती और भगवान शिव का ध्यान करें। 
- जया पार्वती व्रत का समापन करते समय सबसे पहले किसी ब्राह्मण को भोजन कराएं और इशके आलवा  वस्त्र और यथासंभव धन दान दें। 
- आखिरी में व्रत का समापन  जया पार्वती  की कथा सुनकर करें। 
 
यह भी पढ़ें:-
Unluck Plants for Home: शुभ नहीं, बल्कि अशुभ माने जाते हैं ये पौधे ! घर में लगाने से आती है दरिद्रता

What is Karma Akarama Vikarma : कर्म अकर्म और विकर्म क्या है? जानिए
Panchmukhi Shiv: भगवान शिव के क्यों है पांच मुख? जानिए इन 5 मुख का रहस्य
विज्ञापन