विज्ञापन
Home  dharm  sawan me karen mahamrityunjaya mantra ka jap saavan mein kyon karana chaahie mahaamrtyunjay mantr ka jaap

Sawan Me Karen Mahamrityunjaya Mantra Ka Jap: सावन में क्यों करना चाहिए महामृत्युंजय मंत्र का जाप? जानिए

जीवांजलि धार्मिक डेस्क Published by: कोमल Updated Tue, 09 Jul 2024 03:36 PM IST
सार

Sawan Me Karen Mahamrityunjaya Mantra Ka Jap: सावन का महीना शिव भक्ति के लिए बहुत शुभ माना जाता है आपको बता दें कि सावन महीने में भक्त महादेव को प्रसन्न करने के लिए तरह-तरह के उपाय करते हैं।

महामृत्युंजय मंत्र
महामृत्युंजय मंत्र- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Sawan Me Karen Mahamrityunjaya Mantra Ka Jap: सावन का महीना शिव भक्ति के लिए बहुत शुभ माना जाता है आपको बता दें कि सावन महीने में भक्त महादेव को प्रसन्न करने के लिए तरह-तरह के उपाय करते हैं। और महादेव की कृपा पाते हैं। इस महीने में विधि- विधान से भक्त मां पार्वती और भगवान शिव की पूजा-अर्चना  की जाती है । इसके साथ ही सावन में अगर आप महामृत्युंजय मंत्र का जाप करते हैं तो आपको बहुत लाभ मिलता है और आप पर सदैव महादेव की कृपा बनी रहती है चलिए आपको महामृत्यंजय मंत्र का अर्थ बताते हैं 
विज्ञापन
विज्ञापन

संपूर्ण महामृत्युंजय मंत्र क्या है  Sampoorn Mahamrtyunjay Mantr Kya Hai

ॐ हौं जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान्मृ त्योर्मुक्षीय मामृतात् ॐ स्वः भुवः भूः ॐ सः जूं हौं ॐ।

लघु मृत्युंजय मंत्र क्या है Laghu Mrtyunjay Mantr Kya Hai 

ॐ जूं स माम् पालय पालय स: जूं ॐ।

महामृत्युंजय मंत्र का क्या अर्थ है Mahamrtyunjay Mantr Ka Kya Arth Hai

हम इस पूरे संसार के रक्षक त्रिनेत्रधारी भगवान शिव की आराधना करते हैं। इस पूरे संसार में सुगंध फैलाने वाले भगवान शंकर हमें मृत्यु के बंधनों से मुक्त करें, ताकि हम मोक्ष प्राप्त कर सकें।
विज्ञापन


किस विधि से करें महामृत्युंजय मंत्र का जाप Kis Vidhi Se Karen Mahamrtyunjay Mantr Ka Jaap

आपको बता दें कि भगवान शिव के महामृत्युंजय मंत्र का जाप सवा लाख बार करना चाहिए और लघु मृत्युंजय मंत्र का जाप 11 लाख बार  जाप करना चाहिए सावन के पावन महीने इस मंत्र का जाप करना बहुत लाभकारी माना जाता है । इस मंत्र का जाप सदैव सोमवार के दिन से करना चाहिए । इसके साथ ही इस मंत्र  का जब भी जाप करें   रुद्राक्ष की माला का प्रयोग करें। और 12 बजे  से पहले ही महामृत्युंजय मंत्र का जाप करें भूल से भी 12 बजे के बाद महामृत्युंजय मंत्र का जाप न करें। और जब मंत्र का जाप पूरा हो जाए तब हवन जरूर करें आपको अधिक लाभ मिलेगा 

महामृत्युंजय मंत्र का जाप क्यों करते हैं?  Mahamrtyunjay Mantr Ka Jaap Kyon Karate Hain?

महामृत्युंजय मंत्र का जाप विशेष परिस्थितियों में ही किया जाता है। भगवान शिव के महामृत्युंजय मंत्र का जाप अकाल मृत्यु, बड़ी बीमारी, धन हानि, पारिवारिक क्लेश, ग्रह बाधा, ग्रह पीड़ा, दंड का भय, संपत्ति विवाद, सभी पापों से मुक्ति आदि स्थितियों में किया जाता है। इसके चमत्कारी लाभ देखने को मिलते हैं। महामृत्युंजय मंत्र या लघु मृत्युंजय मंत्र का जाप करने से इन सभी समस्याओं से मुक्ति मिलती है।



यह भी पढ़ें:-
Unluck Plants for Home: शुभ नहीं, बल्कि अशुभ माने जाते हैं ये पौधे ! घर में लगाने से आती है दरिद्रता
Garuda Purana : गरुण पुराण क्या है, क्यों किया जाता है इसका पाठ? जानिए
Panchmukhi Shiv: भगवान शिव के क्यों है पांच मुख? जानिए इन 5 मुख का रहस्य
विज्ञापन