विज्ञापन
Home  dharm  sawan 2024 why is rudrabhishek performed only in sawan what is the importance of rudrabhishek

Sawan Rudrabhishek: सावन में रुद्राभिषेक का क्या है महत्व? जानिए इससे मिलने वाले लाभ

जीवांजलि धर्म डेस्क Published by: निधि Updated Tue, 25 Jun 2024 05:35 PM IST
सार

Importance Of Doing Rudrabhishek In Sawan: भगवान शिव का प्रिय महीना सावन की शुरूआत 22 जुलाई दिन सोमवार से होगी। माना जाता है की सावन का महीना बहुत ही पवित्र होता है।

Importance Of Doing Rudrabhishek In Sawan:
Importance Of Doing Rudrabhishek In Sawan:- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Importance Of Doing Rudrabhishek In Sawan: भगवान शिव का प्रिय महीना सावन की शुरूआत 22 जुलाई दिन सोमवार से होगी। माना जाता है की सावन का महीना बहुत ही पवित्र होता है। यह महीना भगवान शिव को सबसे अधिक प्रिय होता है। सावन के महीने में शिव शंकर के भक्त विशेष पूजा आराधना करके महादेव को प्रसन्न  करते हैं। सावन के महीने में महादेव के भक्त मंदिर में जाकर भोलेनाथ का जलाभिषेक करते हैं। कहते है की महादेव एक जल लोटे से भी प्रसन्न हो जाते है और भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। इसी वजह से सावन के महीने में भगवान भोलेनाथ का रुद्राभिषेक करने का विशेष महत्व होता है। आपको बता दे की भगवान शिव का रुद्राभिषेक अलग-अलग चीजों से किया जाता है जिसका विशेष महत्व होता है। ऐसे में सावन का महीना शुरू होने से पहले हम आपको उन चीजों से भगवान शिव का अभिषेक करने और उससे मिलने वाले फलों के बारे में जानकारी देते हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

महादेव का दूध से अभिषेक करने का क्या है महत्व 

What Is The Significance Of Anointing Mahadev With Milk

सावन के महीने में भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए महादेव का दूध से अभिषेक करने का विशेष महत्व है। सावन के महीने में शिव भक्तों को हर दिन भगवान शिव का दूध से अभिषेक करना चाहिए, खास तौर पर सावन के 16 सोमवार को। आपको बता दें कि भगवान शिव का गाय के दूध से अभिषेक करना चाहिए, इससे व्यक्ति की सभी मनोकामना पूरी होती है।

महादेव का दही से अभिषेक करने का क्या है महत्व 

What Is The Importance Of Anointing Mahadev With Curd

इसके अलावा सावन के महीने में भगवान शिव का दही से अभिषेक करना बहुत लाभकारी माना जाता है। अगर शिवलिंग का दही से अभिषेक किया जाए तो व्यक्ति के कार्यों में आने वाली सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं। इसके अलावा दही से अभिषेक करने से व्यक्ति का आत्मविश्वास बढ़ता है और जीवन में सुख-शांति बनी रहती है।
विज्ञापन

महादेव का गंगाजल से अभिषेक करने का क्या है महत्व

What Is The Importance Of Anointing Mahadev With Ganga Water

  कहते है की भगवान शिव ने मां गंगा को अपनी जटाओं में धारण किया हुआ है। ऐसे में जो भक्त सावन के महीने में भगवान शिव का गंगाजल से अभिषेक करता है, उसे भगवान शिव की विशेष कृपा के साथ मां गंगा का भी आर्शीवाद मिलता है। गंगाजल से अभिषेक करने से व्यक्ति को जीवन-मरण के बंधन से मुक्ति मिलती है।

महादेव का शहद से अभिषेक करने का क्या है महत्व

What is The Importance Of Anointing Mahadev With Honey

भगवान शिव का शहद से रुद्राभिषेक करने का विशेष महत्व है। जो शिव भक्त सावन के पवित्र महीने में भगवान शिव का शहद से अभिषेक करता है, उसे जीवन में हमेशा मान-सम्मान की प्राप्ति होती है। इसके अलावा शहद से अभिषेक करने से व्यक्ति की वाणी में जन्मजात दोष दूर होता है और उसके स्वभाव में सौम्यता आती है।

महादेव का घी से अभिषेक करने का क्या है महत्व

What Is The Importance Of Anointing Mahadev With Ghee

यदि भगवान शिव का शुद्ध देसी घी से अभिषेक किया जाए तो व्यक्ति का स्वास्थ्य अच्छा रहता है। यदि कोई व्यक्ति लंबे समय से किसी रोग से ग्रसित है तो उसे सावन के महीने में भगवान शिव का घी से अभिषेक अवश्य करना चाहिए।

महादेव का इत्र से अभिषेक करने का क्या है महत्व

What Is The Importance Of Anointing Mahadev With Perfume

 आपको बता दे की घी,दूध, शहद के आलवा इत्र से भी महादेव का अभिषेक किया जाता है। जो लोग किसी मानसिक तनाव से गुजर रहे हैं उन्हें भगवान शिव का इत्र से अभिषेक करना चाहिए। इत्र से अभिषेक करने से व्यक्ति के जीवन में शांति आती है।

महादेव का गन्ने से अभिषेक करने का क्या है महत्व

What Is The Significance Of Anointing Mahadev With Sugarcane

व्यक्ति के जीवन से आर्थिक समस्याओं को दूर करने के लिए भगवान शिव का गन्ने के रस से अभिषेक करना लाभकारी होता है। इससे व्यक्ति धन की कमी की समस्या से बाहर निकलता है।

महादेव का शुद्ध जल से अभिषेक करने का क्या है महत्व

What is the importance of anointing Mahadev with pure water

पुण्य और शिव की कृपा पाने के लिए शुद्ध जल से अभिषेक करने का विशेष महत्व है।

महादेव का सरसों के तेल से अभिषेक करने का क्या है महत्व

What is the significance of anointing Mahadev with mustard oil

जिन लोगों की कुंडली में किसी भी तरह का दोष है उन्हें सरसों के तेल से शिव का अभिषेक करना चाहिए। इससे पाप ग्रहों की पीड़ा कम होती है और शत्रुओं का नाश होता है तथा पराक्रम में वृद्धि होती है।
विज्ञापन