विज्ञापन
Home  dharm  sawan 2024 if you want to get the blessings of bholenath in sawan then definitely visit these temples

Sawan 2024: सावन में पाना चाहते हैं भोलेनाथ की कृपा, तो जरूर करें इन मंदिरों के दर्शन

जीवांजलि धार्मिक डेस्क Published by: कोमल Updated Fri, 21 Jun 2024 07:08 AM IST
सार

Sawan 2024: सावन का पवित्र महीना हर आषाढ़ पूर्णिमा के बाद शुरू हो जाता है। इस पूरे महीने में भक्त भोलेनाथ की पूजा करते हैं। मान्यता है कि अगर भक्त सच्चे मन से महादेव की पूजा करते हैं तो उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

सावन 2024
सावन 2024- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Sawan 2024: सावन का पवित्र महीना हर आषाढ़ पूर्णिमा के बाद शुरू हो जाता है। इस पूरे महीने में भक्त भोलेनाथ की पूजा करते हैं। मान्यता है कि अगर भक्त सच्चे मन से महादेव की पूजा करते हैं तो उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। भक्त इस महीने का बेसब्री से इंतजार करते हैं। कहा जाता है कि सावन के महीने में हर दिन महादेव की पूजा करने से घर में सुख, शांति और समृद्धि आती है। इस महीने में हर शिव मंदिर में भक्तों की भारी भीड़ उमड़ती है। इस खास मौके पर भक्त शिव के दर्शन और पूजा कर खुद को सौभाग्यशाली मानते हैं। ऐसे में हम आपको देश के कुछ प्रसिद्ध शिव मंदिरों के बारे में बताएंगे, जहां आप भोलेनाथ के दर्शन कर सकते हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

सावन में इन मंदिरों के करें दर्शन - Visit these temples in Sawan

सोमनाथ मंदिर - Somnath Temple

गुजरात में स्थित सोमनाथ शिव मंदिर देश-दुनिया में काफी प्रसिद्ध है। बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक होने के कारण इस मंदिर की अपनी अलग मान्यता है। हर साल दूर-दूर से बड़ी संख्या में भक्त भोलेबाबा के दर्शन करने यहां पहुंचते हैं। सावन में इस मंदिर के दर्शन करना शुभ माना जाता है।
विज्ञापन

महाकालेश्वर मंदिर - Mahakaleshwar Temple

मध्य प्रदेश के उज्जैन में स्थित महाकाल मंदिर पूरी दुनिया में काफी प्रसिद्ध है। हर साल यहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं। खास तौर पर सावन के महीने में यहां लोगों की भारी भीड़ देखने को मिलती है। यहां सावन के दौरान बाबा महाकाल की बारात निकाली जाती है, जिसके तहत भोलेनाथ नगर भ्रमण करते हैं और अपनी प्रजा का हाल जानते हैं।


श्री बृहदेश्वर मंदिर - Sri Brihadeshwara Temple

तमिलनाडु के तंजौर में स्थित यह मंदिर भगवान के सबसे प्राचीन और विशाल मंदिरों में से एक है। ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर का निर्माण 11वीं शताब्दी में चोल प्रथम ने करवाया था। अगर आप सावन के महीने में शिव मंदिर जाने की सोच रहे हैं तो यहां जा सकते हैं। इस मंदिर को भक्त पेरिया कोविल, राजराजेश्वर और राजराजेश्वरम के नाम से भी जाना जाता है।

बैद्यनाथ मंदिर - Baidyanath Temple

झारखंड के देवघर में स्थित बैद्यनाथ मंदिर भी भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। इस मंदिर की गिनती भी शिव के प्राचीन मंदिरों में होती है। सावन के महीने में यहां भक्तों की भारी भीड़ देखने को मिलती है। यह मंदिर अपनी कहानियों और स्थापत्य शैली के लिए भी जाना जाता है।

भोजपुर मंदिर - Bhojpur Temple

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से कुछ ही दूरी पर स्थित भोजपुर मंदिर भी भगवान शिव के प्रसिद्ध और प्राचीन मंदिरों में से एक है। प्राचीन काल में बने इस मंदिर में मौजूद शिवलिंग को सबसे बड़े शिवलिंग का दर्जा प्राप्त है। ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर का निर्माण एक रात में हुआ था।

काशी विश्वनाथ - Kashi Vishwanath

उत्तर प्रदेश की प्राचीन धार्मिक नगरी वाराणसी में स्थित काशी विश्वनाथ मंदिर विश्व प्रसिद्ध है। भगवान शिव को यहां बाबा विश्वनाथ कहा जाता है। मान्यता है कि बाबा विश्वनाथ के आशीर्वाद से भक्तों के लिए मोक्ष का द्वार खुल जाता है और भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। यहां आने मात्र से ही भक्तों के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं और मन-मस्तिष्क को असीम शांति मिलती है।
 

Akshat Puja: पूजा में क्यों चढ़ाया जाता है अक्षत, जानिए अक्षत का महत्व

Lord Vishnu: भगवान विष्णु को क्यों कहा जाता है नारायण ? जानिए इसके पीछे की कहानी

Shani Upay: कैसे पहचानें कुंडली में कमजोर शनि के लक्षण? जानिए शनि ग्रह को मजबूत करने के उपाय

विज्ञापन