विज्ञापन
Home  dharm  sawan 2024 date know how the month of sawan started with this mythological story

Sawan 2024: इस पौराणिक कथा से जानिए कैसे हुई थी सावन माह की शुरूआत

जीवांजलि धर्म डेस्क Published by: निधि Updated Sun, 07 Jul 2024 05:25 PM IST
सार

Sawan 2024: इस बार श्रावण मास की शुरूआत 22 जुलाई से हो रही है और इसका समापन 15 अगस्त को होगा. इस बार श्रावण मास पर अद्भुत संयोग बन रहा है 
 

Sawan 2024:
Sawan 2024:- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Sawan 2024: हिंदू धर्म में सावन के महीने का बहुत महत्व है। श्रावण मास में भगवान शिव की विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। मान्यता के अनुसार, श्रावण मास भगवान भोलेनाथ को प्रिय है। सावन के महीना सबी शिव भक्तों की मनोकामनाएं पूर्ण करने वाला महीना भी कहा जाता है। श्रावण मास को साल का सबसे पवित्र महीना माना जाता है। इस महीने में सोमवार व्रत और सावन स्नान की भी परंपरा है।
विज्ञापन
विज्ञापन


  आपको बता दे की इस बार सावन महीना की शुरूआत 22 जुलाई दिन सोमवार से हो रही है और इसका समापन 15 अगस्त दिन गुरुवार को होगा. इस बार श्रावण मास पर शुभ संयोग बन रहा है क्योंकि सावन की शुरूआत का  पहला दिन ही सोमवार है,
विज्ञापन

कैसे हुई थी सावन माह की शुरूआत

जब शिव ने किया विषपान

मान्यताओं के अनुसार कहा जाता है की सावन के महीने में सोमवार को भगवान शिव की पूजा करने से जीवन में आने वाले सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं। भगवान शंकर को  एक लौटा जल चढ़ाने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं और महादेव प्रसन्न भी हो जाते है। पौराणिक कथाओं के अनुसार कहा जाता है कि देवासुर संग्राम के दौरान समुद्र मंथन से निकले विष को भगवान शिव ने सृष्टि को बचाने के लिए पी लिया था। इससे उनका शरीर काफी गर्म हो गया था, जिससे भगवान शिव को काफी परेशानी होने लगी थी।

इंद्रदेव ने कराई जमकर बारिश

भगवान शिव को इस संकट से निकालने के लिए इंद्रदेव ने भारी बारिश करवाई। कहा जाता है कि यह घटना सावन के महीने में हुई थी। इस तरह भगवान शिव ने विष पीकर संसार को बचाया। तभी से यह मान्यता है कि सावन के महीने में भगवान शिव अपने भक्तों के कष्ट बहुत जल्दी दूर करते हैं। इसीलिए सावन के महीने में उज्जैन, हरिद्वार, वाराणसी, देवघर और अन्य तीर्थ स्थानों पर शिव भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ता है।

सावन सोमवार का महत्व

सावन में पड़ने वाले सोमवार के दिन भगवान शिव की विशेष पूजा होती है। इस साल सावन के महीने में शुभ संयोग बन रहा है। श्रावण माह की शुरूआत सोमवार से हो रही है और इसका अंत भी सोमवार के दिन होगा। सावन में इस बार पांच सोमवार पड़ रहे हैं। पहला सोमवार 22 जुलाई को, दूसरा 29 जुलाई को, तीसरा 05 अगस्त को, चौथा  12 अगस्त  को और पांचवां व अंतिम सोमवार 19 अगस्त  को पड़ रहा है। इसी दिन सावन माह भी समाप्त होगा।
 
विज्ञापन