विज्ञापन
Home  dharm  religious places  puri rath yatra 2024 date know how to go to jagannath puri keep these things in mind

Puri Rath Yatra 2024: अगर आप भी शामिल होना चाहते हैं जगन्नाथ रथ यात्रा में, तो इन बातों का रखें ध्यान

जीवांजलि धर्म डेस्क Published by: निधि Updated Sun, 30 Jun 2024 01:17 PM IST
सार

Jagannath Rath Yatra 2024: ओडिशा में स्थित पुरी का जगन्नाथ मंदिर चार पवित्र धामों में से एक है। हिंदू धर्म के अनुसार, भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा हर साल आषाढ़ माह में शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को होती है।

Jagannath Rath Yatra 2024
Jagannath Rath Yatra 2024- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Jagannath Rath Yatra 2024: ओडिशा में स्थित पुरी का जगन्नाथ मंदिर चार पवित्र धामों में से एक है। हिंदू धर्म के अनुसार, भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा हर साल आषाढ़ माह में शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को होती है। जगन्नाथ यात्रा कुल 10 दिनों की होती है, 11वें दिन जगन्नाथ जी की वापसी के साथ यात्रा का समापन होता है। श्री हरि विष्णु के आठवें अवतार भगवान कृष्ण भी जगन्नाथ मंदिर में विराजमान होते हैं, साथ ही उनके बड़े भाई बलराम और बहन सुभद्रा भी यात्रा में उनके साथ होते हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन


अगर आप भी ओडिशा के जगन्नाथ मंदिर की यात्रा में शामिल होना चाहते हैं, तो इस यात्रा से जुड़ी सभी जानकारी इस लेख में मिलेगी। इस साल जगन्नाथ यात्रा 2024 कब शुरू हो रही है, रथ यात्रा में कौन शामिल हो सकता है और पुरी के जगन्नाथ मंदिर तक कैसे पहुंचा जा सकता है।

जगन्नाथ रथ यात्रा की तारीख  

हर साल आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को जगन्नाथ मंदिर से भव्य रथ यात्रा निकलती है। इस साल भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा 7 जुलाई 2024, रविवार से शुरू होगी।
विज्ञापन

कैसे पहुंचे जगन्नाथ पुरी

आप दिल्ली से रेल या फ्लाइट से जगन्नाथ पुरी पहुँच सकते हैं। दिल्ली से भुवनेश्वर के लिए कई ट्रेनें उपलब्ध हैं, जबकि आगे की यात्रा बस या ट्रेन से की जा सकती है। इसके अलावा, दिल्ली से भुवनेश्वर के लिए कई उड़ानें हैं। आप एयरपोर्ट से बस, ट्रेन या कैब बुक करके जगन्नाथ पुरी पहुँच सकते हैं।

पहले से बुकिंग

अगर आप जगन्नाथ रथ यात्रा में भाग लेना चाहते हैं, तो ट्रेन या फ्लाइट की टिकट पहले से बुक कर लें। इसके अलावा मंदिर के आसपास के होटल और धर्मशालाओं की भी बुकिंग पहले से करवा लें, क्योंकि इस रथ यात्रा में भाग लेने के लिए दुनियाभर से श्रद्धालु आते हैं। ऐसे में आपको ठहरने में दिक्कत आ सकती है।रथ यात्रा के दौरान मंदिर के आस-पास के ज़्यादातर होटल, धर्मशालाएँ और ठहरने की जगहें भरी रहती हैं। यहाँ पहुँचने के बाद आपको ठहरने की जगह की समस्या हो सकती है, इसलिए होटल, धर्मशाला या आश्रम पहले से बुक कर लें। अगर आपने अभी तक होटल बुक नहीं किया है, तो मंदिर से थोड़ी दूरी पर स्थित होटल में ठहरने की व्यवस्था करें। यहाँ कमरा मिलना आसान है।

साथ क्या ले जाएं

अगर परिवार के बड़े-बुजुर्ग और बच्चे रथ यात्रा में साथ जा रहे हैं, तो उनकी ज़रूरत के हिसाब से सारा सामान पैक कर लें। बड़ों के लिए दवाइयाँ, मौसम के हिसाब से कपड़े और दूसरी ज़रूरी चीज़ें साथ ले जाएँ।

खानापान

मंदिर के आस-पास बाज़ार है, जहाँ आपको खाने-पीने के लिए स्ट्रीट मार्केट या रेस्टोरेंट मिल जाएँगे। कई दुकानें कम दामों पर स्वादिष्ट व्यंजन बेचती हैं, लेकिन कुछ भी खाते समय शुद्धता का ध्यान रखें। ध्यान रखें कि इससे आपकी सेहत खराब न हो। इस दौरान रेस्टोरेंट में भी भीड़ हो सकती है, इसलिए अपने साथ कुछ स्नैक्स और ड्राई फ्रूट्स ज़रूर रखें।


 
विज्ञापन