विज्ञापन
Home  dharm  mangala gauri vrat when will the first mangala gauri fast of sawan be observed know the date and importance

Mangala Gauri Vrat: कब रखा जाएगा सावन का पहला मंगला गौरी व्रत? जानिए तिथि, और महत्व

जीवांजलि धार्मिक डेस्क Published by: कोमल Updated Fri, 21 Jun 2024 05:06 AM IST
सार

Mangala Gauri Vrat: देवों के देव महादेव को सावन का महीना बहुत प्रिय है इस महीने में हर दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है  साथ ही महादेव के लिए सोमवार का व्रत भी रखा जाता है इस व्रत को रखने से मनचाहा फल मिलता है

पहला मंगला गौरी व्रत?
पहला मंगला गौरी व्रत?- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Mangala Gauri Vrat: देवों के देव महादेव को सावन का महीना बहुत प्रिय है इस महीने में हर दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है  साथ ही महादेव के लिए सोमवार का व्रत भी रखा जाता है इस व्रत को रखने से मनचाहा फल मिलता है वहीं सावन महीने के हर मंगलवार को मंगला गौरी व्रत रखा जाता है यह दिन माता गौरी को समर्पित है इसलिए सावन महीने के हर मंगलवार को सुहागिन महिलाएं व्रत रखती हैं और माता गौरी की पूजा और ध्यान करती हैं धार्मिक मत है कि मंगला गौरी व्रत रखने से सुहागिन महिलाओं का सुख-सौभाग्य बढ़ता है साथ ही पति की आयु लंबी होती है और  अविवाहित लड़कियां भी शीघ्र विवाह के लिए यह व्रत रखती हैं. इस व्रत के पुण्य से मनचाहा वर मिलता है. आइए जानते हैं मंगला गौरी व्रत के बारे में सबकुछ.
विज्ञापन
विज्ञापन

कब है पहला मंगला गौरी व्रत? Kab Hai Mangala Gauri Vrat

इस बार सावन का महीना 22 जुलाई, सोमवार से शुरू होगा. ऐसे में सावन का पहला मंगला गौरी व्रत 23 जुलाई 2024, मंगलवार को रखा जाएगा. मंगला गौरी व्रत के दिन अगर कुछ खास उपाय किए जाएं तो मंगल ग्रह से जुड़े दोषों से मुक्ति मिलती है।

किस शुभ मुहूर्त में मनाया जाएगा पहला मंगला गौरी व्रत? Kis Shubh Muhoort Mein Manaya jayega pahla Mangala Gauri Vrat

ज्योतिषियों की मानें तो सावन मास के कृष्ण पक्ष की द्वितीया तिथि 23 जुलाई को सुबह 10:23 बजे तक है। इसके बाद तृतीया तिथि शुरू हो जाएगी। तृतीया तिथि 24 जुलाई को सुबह 07:19 बजे समाप्त होगी। इसका मतलब है कि मंगला गौरी व्रत तृतीया तिथि को मनाया जाएगा। वहीं ज्योतिष गणना के अनुसार सावन 22 जुलाई से शुरू हो रहा है इसी दिन पहला सोमवार व्रत  रखा जाएगा। इसके अगले दिन 23 जुलाई को  सावन मास का पहला मंगला गौरी व्रत रखा जाएगा
विज्ञापन


किस शुभ योग में रखा जाएगा पहला मंगला गौरी व्रत? Kis Shubh Yog Mein Manaya jayega pahla Mangala Gauri Vrat

सावन मास के पहले मंगला गौरी व्रत पर आयुष्मान और सौभाग्य योग बन रहा है। आयुष्मान योग दोपहर 02:36मिनट  तक है। वहीं, सौभाग्य योग 24 जुलाई को सुबह 11:11 मिनट तक है। साथ ही मंगला गौरी व्रत पर द्विपुष्कर योग का संयोग भी बन रहा है। यह योग सुबह 05:38 बजे से 10:23 मिनट  तक बना है। इस योग में मां गौरी की पूजा करने से व्रती की हर मनोकामना पूरी होती है।

मंगला गौरी व्रत क्यों रखा जाता है? Mangala Gauri Vrat Kyon Rakha Jaata Hai

मान्यता है कि मंगला गौरी व्रत अखंड सौभाग्य की प्राप्ति के लिए रखा जाता है। इस व्रत के प्रभाव से पति को लंबी आयु का वरदान मिलता है। साथ ही घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है। कहा जाता है कि अगर अविवाहित लड़कियां यह व्रत रखें तो उन्हें अच्छा वर मिलता है। इतना ही नहीं, मंगला गौरी व्रत के प्रभाव से विवाह से जुड़ी सभी तरह की परेशानियां दूर हो जाती हैं।

इस साल कितने मंगला गौरी व्रत रखे जाएंगे Is Saal Kitne Mangala Gauri Vrat Rakhe Jayege

सावन का पहला मंगला गौरी व्रत - 23 जुलाई, 2024
सावन का दूसरा मंगला गौरी व्रत - 30 जुलाई, 2024
सावन का तीसरा मंगला गौरी व्रत - 6 अगस्त, 2024
सावन का चौथा मंगला गौरी व्रत - 13 अगस्त, 2024
 

Akshat Puja: पूजा में क्यों चढ़ाया जाता है अक्षत, जानिए अक्षत का महत्व

Lord Vishnu: भगवान विष्णु को क्यों कहा जाता है नारायण ? जानिए इसके पीछे की कहानी

Shani Upay: कैसे पहचानें कुंडली में कमजोर शनि के लक्षण? जानिए शनि ग्रह को मजबूत करने के उपाय


 
विज्ञापन