विज्ञापन
Home  dharm  kshamayachna mantra worshiping is completed by chanting this mantra

Kshamayachna Mantra: पूजा करते समय हो जाए कोई गलती, तो भगवान के समक्ष पढ़ें क्षमायाचना मंत्र

जीवांजलि धर्म डेस्क Published by: निधि Updated Fri, 28 Jun 2024 08:20 AM IST
सार

Kshamayachna Mantra: ऋषि-मुनियों के समय से ही पूजा-पाठ करते समय विशेष मंत्रों का जाप करने का नियम रहा है। हम सभी किसी न किसी देवी-देवता की पूजा करते हैं।

Kshamayachna Mantra
Kshamayachna Mantra- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Kshamayachna Mantra: ऋषि-मुनियों के समय से ही पूजा-पाठ करते समय विशेष मंत्रों का जाप करने का नियम रहा है। हम सभी किसी न किसी देवी-देवता की पूजा करते हैं। पूजा-पाठ करते समय हम जाने-अनजाने में गलतियां कर बैठते हैं। जिस तरह शास्त्रों में प्रार्थना, स्नान, ध्यान और यहां तक कि भोग लगाने के लिए मंत्रों का उल्लेख है, उसी तरह क्षमा याचना मंत्रों का भी उल्लेख किया गया है। इसके जरिए हम पूजा-पाठ के दौरान हुई भूल-चूक के लिए भगवान से क्षमा मांगते हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन


शास्त्रों में सभी देवी-देवताओं की पूजा-अर्चना के नियम बताए गए हैं। लेकिन फिर भी हम पूजा-पाठ के दौरान कोई न कोई भूल कर बैठते हैं। जिस तरह शास्त्रों में प्रार्थना, स्नान, ध्यान और यहां तक कि भोग लगाने के लिए मंत्रों का उल्लेख है, उसी तरह क्षमा याचना मंत्रों का भी उल्लेख किया गया है। इसके जरिए हम पूजा-पाठ के दौरान हुई भूल-चूक के लिए भगवान से क्षमा मांगते हैं।

चाहे पूजा हो या हमारा जीवन, क्षमा की भावना को सबसे बड़ी भावना माना जाता है। पूजा-पाठ के दौरान मांगी जाने वाली क्षमा हमारे दैनिक जीवन में हुई गलतियों के लिए भी होनी चाहिए। जब हम भगवान से अपनी गलतियों के लिए क्षमा मांगते हैं, तो पूजा पूरी मानी जाती है। हमें अपने दैनिक जीवन में अपनी गलतियों के लिए भी क्षमा मांगनी चाहिए। क्षमा करने की भावना हमारे अंदर के अहंकार को नष्ट कर देती है।
विज्ञापन

क्षमायाचना का मंत्र और उसका अर्थ

 आवाहनं न जानामि न जानामि विसर्जनम्। पूजां चैव न जानामि क्षमस्व परमेश्वर।।
मंत्रहीनं क्रियाहीनं भक्तिहीनं जनार्दन। यत्पूजितं मया देव। परिपूर्ण तदस्तु मे।।
 
इसका मतलब है कि हे भगवान, मैं आपको बुलाना या विदा करना नहीं जानता। मैं आपकी पूजा करना भी नहीं जानता। कृपया मुझे माफ़ कर दीजिए। मैं मंत्र या अनुष्ठान नहीं जानता। मैं आपकी पूजा करना भी नहीं जानता। मैं आपकी यथासंभव पूजा कर रहा हूँ। कृपया मेरी गलतियों को माफ़ कर दीजिए और पूजा पूरी कीजिए। मैं एक भक्त हूँ और मुझसे गलतियाँ हो सकती हैं। हे भगवान, मुझे माफ़ कर दीजिए। मेरा अहंकार दूर कर दीजिए। मैं आपकी शरण में हूँ।
 
विज्ञापन