विज्ञापन
Home  dharm  kab hai kark sankranti 2024 date maha punya kaal snan daan time effects on life and surya dakshinayan ka arth

Kark Sankranti 2024: इस साल कब मनाई जाएगी कर्क संक्रांति ? जानिए सही तिथि और शुभ मुहूर्त

जीवांजलि धार्मिक डेस्क Published by: कोमल Updated Mon, 08 Jul 2024 03:42 PM IST
सार

Kark Sankranti 2024: कर्क संक्रांति का त्योहार हिंदू धर्म में विशेष महत्व रखता है। आपको बता दें कि जब सूर्य किसी राशि में प्रवेश करता है तो उस तिथि को संक्रांति के नाम से जाना जाता है। आपको बता दें कि पूरे वर्ष में कुल 12 संक्रांतियां मनाई जाती हैं।

कर्क संक्रांति 2024
कर्क संक्रांति 2024- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Kark Sankranti 2024: कर्क संक्रांति का त्योहार हिंदू धर्म में विशेष महत्व रखता है। आपको बता दें कि जब सूर्य किसी राशि में प्रवेश करता है तो उस तिथि को संक्रांति के नाम से जाना जाता है। आपको बता दें कि पूरे वर्ष में कुल 12 संक्रांतियां मनाई जाती हैं। जिनमें कर्क संक्रांति और मकर संक्रांति का विशेष महत्व है। कर्क संक्रांति के दिन पूजा-पाठ और दान करना बहुत फलदायी माना जाता है क्योंकि मान्यता है कि जो भी व्यक्ति कर्क संक्रांति ( Kark Sankranti )के दिन विधि-विधान से पूजा-पाठ करता है, उसके सभी प्रकार के दोष दूर हो जाते हैं, इसके साथ ही ग्रह-नक्षत्रों का शुभ फल भी प्राप्त होता है। प्राप्त हुआ। आपको बता दें कि जब सूर्य मिथुन राशि से कर्क राशि में गोचर करता है, तब कर्क संक्रांति का त्योहार मनाया जाता है। आइए आपको बताते हैं कि इस साल कर्क संक्रांति कब मनाई जाएगी।

 

विज्ञापन
विज्ञापन
कर्क संक्रांति
कर्क संक्रांति- फोटो : jeevanjali

कर्क संक्रांति 2024 डेट (Kark Sankranti 2024 Date)

कर्क संक्रांति की गणना के अनुसार वैदिक पंचांग के अनुसार इस साल सूर्य देव मिथुन राशि से निकलकर  16 जुलाई मंगलवार को Kark Sankranti 2024 Date प्रातः 11:29 मिनट पर  कर्क राशि में प्रवेश करेंगे। इस दिन शुभ योग, रवि योग और विशाखा नक्षत्र है। रवि योग प्रातः 05:34 मिनट  से 02:00 मिन टतक है। अगले दिन 17 जुलाई को सुबह 07 बजकर 14 मिनट तक शुभ योग रहेगा, जबकि शुभ योग सुबह 07 बजकर 19 मिनट से पूरी रात तक रहेगा। विशाखा नक्षत्र सुबह से देर रात 02:14 बजे तक है।

कर्क संक्रांति 2024 मुहूर्त (Kark Sankranti 2024 Muhurat)

पंचाग की गणना के अनुसार Kark Sankranti 2024 Muhurat कर्क संक्रांति के दिन पुण्य काल सुबह 5:34 मिनट से 11:29 मिनट तक है।

महापुण्य काल 09:00 बजे से है। सुबह 11 बजे से 11:29 मिनट तक।

महापुण्य काल की अवधि 02 घंटे 18 मिनट तक है

 

कर्क संक्रांति
कर्क संक्रांति- फोटो : jeevanjali

कर्क संक्रांति 2024 का महापुण्य काल (Kark Sankranti Maha Punya Kaal)

कर्क संक्रांति का पर्व 16 जुलाई को मनाया जाएगा। इस दिन महापुण्य काल 02 घंटे 18 मिनट तक रहेगा। महापुण्य काल सुबह 9:11 बजे शुरू होगा और 11:29 बजे समाप्त होगा

कर्क संक्रांति 2024 पुण्य काल (kark Sankranti punya kaal)

कर्क संक्रांति के दिन, पुण्य काल 5 घंटे 55 मिनट तक है यह महापुण्य काल से पहले शुरू होगा, लेकिन इसके साथ ही समाप्त  हो जाएगा। कर्क संक्रांति का पुण्य काल सुबह 5:34 बजे से शुरू होकर दिन में 11:29 बजे समाप्त होगा।

 

विज्ञापन
कर्क संक्रांति
कर्क संक्रांति- फोटो : jeevanjali

कर्क संक्रांति महत्व (Kark Sankranti Significance)

अगर कर्क संक्रांति के महत्व Kark Sankranti Mahatva की बात करें तो कहा जाता है कि इस दिन सूर्य देव की पूजा करने से सभी रोग नष्ट हो जाते हैं और सभी तरह के दोष भी दूर हो जाते हैं। आपको बता दें कि शास्त्रों में सूर्य को पंचदेवों में प्रथम माना गया है, इनकी पूजा करने से व्यक्ति को बल, बुद्धि, सुख, समृद्धि के साथ-साथ मान-सम्मान की भी प्राप्ति होती है। कहा जाता है कि सूर्य के कर्क राशि में प्रवेश करने के बाद सभी देवताओं की रात शुरू हो जाती है और इसके साथ ही आसुरी शक्तियां भी सक्रिय हो जाती हैं। ऐसे में अगर आप सूर्य देव की पूजा करते हैं और उनके मंत्रों का जाप करते हैं तो आप नकारात्मक शक्तियों से बच सकते हैं।

कर्क संक्रांति पर सूर्य के दक्षिणायन का महत्व (Surya Dakshinayan 2024)

कर्क संक्रांति से 6 महीने तक सूर्य की दक्षिणायन गति जारी रहती है। इस दौरान सूर्य कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक और धनु राशि में गोचर करता है। जब सूर्य दक्षिणायन में होता है तो विवाह, मुंडन, उपनयन संस्कार, गृहप्रवेश आदि शुभ कार्य वर्जित माने जाते हैं। ऐसा करने से शुभ फल नहीं मिलते हैं।

यह भी पढ़ें:-
Unluck Plants for Home: शुभ नहीं, बल्कि अशुभ माने जाते हैं ये पौधे ! घर में लगाने से आती है दरिद्रता
Garuda Purana : गरुण पुराण क्या है, क्यों किया जाता है इसका पाठ? जानिए
Panchmukhi Shiv: भगवान शिव के क्यों है पांच मुख? जानिए इन 5 मुख का रहस्य

 
विज्ञापन