विज्ञापन
Home  dharm  jyeshtha purnima 2024 june date snan daan samay puja vidhi and shubh muhurat

Jyeshtha Purnima 2024: 21 या 22 जून कब है ज्येष्ठ पूर्णिमा? कब करें व्रत और स्नान-दान, नोट कर लें शुभ मुहूर्त

जीवांजलि Published by: निधि Updated Tue, 18 Jun 2024 12:46 PM IST
सार

Jyeshtha Purnima 2024 Kab Hai: पंचांग पर नजर डालें तो इस वर्ष ज्येष्ठ पूर्णिमा 22 जून, शनिवार को मनाई जाएगी और इसी दिन स्नान-दान किया जाएगा

Jyeshtha Purnima 2024 Kab Hai:
Jyeshtha Purnima 2024 Kab Hai:- फोटो : JEEVANJALI

विस्तार

Jyeshtha Purnima 2024 Kab Hai: हिंदू धर्म में पूर्णिमा का विशेष महत्व होता है. सभी पूर्णिमाओं में ज्येष्ठ मास की पूर्णिमा को विशेष माना गया है. इसमें दान और गंगा स्नान का अधिक महत्व माना गया है. इस दिन गंगा स्नान करने से पापों से मुक्ति मिलती है. भारत के कुछ स्थानों पर ज्येष्ठ पूर्णिमा को वट पूर्णिमा के रूप में भी मनाया जाता है. इस वर्ष ज्येष्ठ मास की पूर्णिमा तिथि 22 जून 2024, शनिवार को है. ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को ज्येष्ठ पूर्णिमा का व्रत किया जाता है. इस तिथि को जेठ पूर्णिमा या जेठ पूर्णमासी भी कहते हैं. हिंदू धर्म में पूर्णिमा तिथि का विशेष महत्व माना गया है. ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन जीवन में सुख-समृद्धि के लिए व्रत और पूजा-पाठ किया जाता है. यह दिन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा को समर्पित होता है. इस दिन पवित्र नदियों में स्नान, व्रत और दान-पुण्य करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है. इस दिन चंद्रमा की पूजा करने से कुंडली में मौजूद चंद्र दोष दूर होता है. आइए जानते हैं ज्येष्ठ पूर्णिमा की तिथि, शुभ मुहूर्त, महत्व और पूजा विधि के बारे में।

विज्ञापन
विज्ञापन

ज्येष्ठ पूर्णिमा कब है?

हिंदू पंचांग के अनुसार, ज्येष्ठ मास की पूर्णिमा तिथि 21 जून 2024 को सुबह 06 बजकर 01 मिनट पर शुरू होगी। वहीं यह तिथि अगले दिन 22 जून 2024 को प्रातः 05 बजकर 07 मिनट पर समाप्त होगी। पंचांग पर नजर डालें तो इस वर्ष ज्येष्ठ पूर्णिमा 22 जून, शनिवार को मनाई जाएगी और इसी दिन स्नान-दान किया जाएगा. हालांकि इसका व्रत 21 जून को किया जाएगा। 

ज्येष्ठ पूर्णिमा स्नान-दान का समय

ब्रह्म मुहूर्त - 04 बजकर 04 मिनट से 04 बजकर 44 मिनट तक

विजय मुहूर्त - दोपहर 02 बजकर 43 मिनट से 03 बजकर 39 मिनट तक

अमृत काल - सुबह 11 बजकर 37 मिनट से दोपहर 01 बजकर 11 मिनट तक

ज्येष्ठ पूर्णिमा का महत्व

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान करने से सभी पापों से मुक्ति मिलती है। इस दिन देवी लक्ष्मी की पूजा करने से सौभाग्य और धन की प्राप्ति होती है। साथ ही चंद्रमा की पूजा करने और सफेद कपड़े, चीनी, चावल, दही या चांदी का दान करने से व्यक्ति को बीमारियों और मानसिक तनाव से मुक्ति मिलती है। साथ ही कुंडली में चंद्रमा की मजबूत स्थिति के कारण जीवन सुखमय व्यतीत होता है।
विज्ञापन

ज्येष्ठ पूर्णिमा पर करें मां लक्ष्मी को प्रसन्न

ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन मां लक्ष्मी की पूजा के दौरान उन्हें 11 कौड़ियां अर्पित करें और हल्दी का तिलक लगाएं। अगले दिन इन कौड़ियों को एक लाल रंग के कपड़े में बांधकर धन के स्थान या फिर अपनी तिजोरी में रख दें। ऐसा करने से धन की कमी का सामना नहीं करना पड़ता

पूर्णिमा व्रत रखने से मिलते हैं ये लाभ

- जिन लोगों की कुंडली में चंद्रमा की स्थिति कमजोर है, या चंद्रमा दूषित है, उनके लिए पूर्णिमा व्रत बहुत ही पुण्यदायी माना जाता है। पूर्णिमा व्रत से चंद्रमा मजबूत होता है और उसके दोष दूर होते हैं।

- जो लोग मानसिक रूप से परेशान रहते हैं, तनाव में रहते हैं, जल्दी निर्णय नहीं ले पाते और जो बहुत डरे हुए रहते हैं, उन्हें पूर्णिमा का व्रत रखना चाहिए। यह व्रत मानसिक समस्याओं को दूर करता है।

वैवाहिक जीवन को बेहतर बनाने के लिए भी पूर्णिमा व्रत को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। यह व्रत जीवन से पारिवारिक कलह को दूर करता है और सुखी जीवन प्रदान करता है।

ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन करें इन मंत्रों का जाप

अगर आप इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करते समय अपनी राशि के अनुसार मंत्रों का जाप करते हैं तो जीवन की सभी परेशानियां दूर हो जाएंगी और आपकी मनोकामनाएं पूरी होंगी।

ॐ विष्णवे नमः- मेष राशि के जातक ज्येष्ठ पूर्णिमा पर ‘ॐ विष्णवे नमः’ मंत्र का 108 बार जाप करें.
ॐ जगन्नाथाय नमः- वृषभ राशि के जातक भगवान विष्णु की कृपा पाने के लिए ‘ॐ जगन्नाथाय नमः’ मंत्र का जाप करें.
ॐ नारायणाय नमः -मिथुन राशि के जातक ज्येष्ठ पूर्णिमा पर ‘ॐ नारायणाय नमः’ मंत्र का एक माला जाप करें.
ॐ हृषीकेशाय नमः-कर्क राशि के जातक मनचाही मुराद पाने के लिए ‘ॐ हृषीकेशाय नमः’ मंत्र का जाप करें.
ॐ चक्रपाणये नमः-सिंह राशि के जातक ज्येष्ठ पूर्णिमा पर ‘ॐ चक्रपाणये नमः’ मंत्र का एक माला जप करें।
ॐ हंसाय नमः-कन्या राशि के जातक विष्णु जी की कृपा पाने हेतु ‘ॐ हंसाय नमः’ मंत्र का जाप करें.
ॐ गोविन्दाय नमः- तुला राशि के जातक ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन ‘ॐ गोविन्दाय नमः’ मंत्र का जाप करें.
ॐ श्रीधराय नमः वृश्चिक राशि के जातक ज्येष्ठ पूर्णिमा को पूजा के समय ‘ॐ श्रीधराय नमः’ मंत्र का एक माला जाप करें.
ॐ श्रीमते नमः– धनु राशि के जातक ज्येष्ठ पूर्णिमा’ॐ श्रीमते नमः’ मंत्र का एक माला जाप करें.
ॐ देवाय नमः-मकर राशि के जातक मनचाहा वर पाने के लिए ‘ॐ देवाय नमः’ मंत्र का एक माला जाप करें.
ॐ वामनाय नमः- कुंभ राशि के जातक ज्येष्ठ पूर्णिमा पर ‘ॐ वामनाय नमः’ मंत्र का जाप एक माला जाप करें.
ॐ रामाय नमः-मीन राशि के जातक लक्ष्मी नारायण जी की कृपा पाने के लिए ‘ॐ रामाय नमः’ मंत्र का 5 माला जाप करें.
 
विज्ञापन