विज्ञापन
Home  dharm  hariyali teej 2024 when will hariyali teej be celebrated this year know the correct date and auspicious time

Hariyali Teej 2024: इस साल कब मनाई जाएगी हरियाली तीज जानिए सही तिथि और शुभ मुहूूर्त

जीवांजलि धार्मिक डेस्क Published by: कोमल Updated Mon, 01 Jul 2024 07:08 AM IST
सार

Hariyali Teej 2024: हर साल सुहागिन महिलाएं अपने पति की सलामती और लंबी उम्र के लिए हरियाली तीज का व्रत रखती हैं। मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करने से सुहागिन महिलाओं को सुखी जीवन मिलता है

हरियाली तीज 2024 तिथि
हरियाली तीज 2024 तिथि- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Hariyali Teej 2024: हर साल सुहागिन महिलाएं अपने पति की सलामती और लंबी उम्र के लिए हरियाली तीज का व्रत रखती हैं। मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करने से सुहागिन महिलाओं को सुखी जीवन मिलता है और उनके पति की उम्र लंबी होती है। हरियाली तीज को श्रावणी तीज भी कहते हैं, क्योंकि यह व्रत सावन माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को पड़ता है। चलिए जानते हैं की क्यों मनाई जाती है, जानें तिथि, पूजा मुहूर्त और महत्व।

विज्ञापन
विज्ञापन

हरियाली तीज 2024 तिथि Hariyali Teej 2024 Date

इस साल हरियाली तीज 7 अगस्त 2024, बुधवार को है। तीज का त्योहार मुख्य रूप से उत्तर भारतीय महिलाएं धूमधाम से मनाती हैं। हरियाली तीज खास तौर पर राजस्थान, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में मनाई जाती है।


हरियाली तीज 2024 मुहूर्त Hariyali Teej 2024 Muhurt

पंचांग के अनुसार सावन मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि 6 अगस्त 2024 को शाम 07:52 मिनट पर शुरू होगी। तृतीया तिथि 7 अगस्त 2024 को रात 10:05 बजे समाप्त होगी।
विज्ञापन


सुबह का मुहूर्त - सुबह 05.46 मिनट से 09.06 मिनट तक
दोपहर का मुहूर्त - सुबह 10.46 मिनट से दोपहर 12.27 मिनट तक
शाम का मुहूर्त - शाम 05.27मिनट से शाम 07.10 मिनट तक


हरियाली तीज क्यों मनाई जाती है?Why is Hariyali Teej celebrated?

हरियाली तीज आमतौर पर नाग पंचमी से दो दिन पहले आती है। नवविवाहित लड़कियां सावन में इस तीज पर व्रत रखती हैं और अच्छे जीवनसाथी की कामना करती हैं। ऐसा माना जाता है कि देवी पार्वती ने भगवान शिव को पति के रूप में पाने के लिए कठोर तपस्या की थी। इस कठोर तपस्या और 108वें जन्म के बाद देवी पार्वती को भगवान शिव पति के रूप में मिले। कहा जाता है कि श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को भगवान शंकर ने देवी पार्वती को अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार किया था, इसीलिए इस दिन महिलाएं व्रत रखती हैं।
 

Akshat Puja: पूजा में क्यों चढ़ाया जाता है अक्षत, जानिए अक्षत का महत्व

Lord Vishnu: भगवान विष्णु को क्यों कहा जाता है नारायण ? जानिए इसके पीछे की कहानी

Shani Upay: कैसे पहचानें कुंडली में कमजोर शनि के लक्षण? जानिए शनि ग्रह को मजबूत करने के उपाय


 
विज्ञापन