विज्ञापन
Home  dharm  hanuman ji s mace know the mythological story of how mace became hanuman ji s weapon

Hanuman ji Ki Gada: गदा कैसे बना हनुमान जी का शस्त्र जानिए पौराणिक कथा

जीवांजलि धार्मिक डेस्क Published by: कोमल Updated Tue, 18 Jun 2024 07:08 AM IST
सार

Hanuman ji Ki Gada: भगवान श्री राम की सेवा में अपना जीवन समर्पित करने वाले महावीर हनुमान की महिमा अपरंपार है। हनुमान जी को भगवान श्री राम का परम भक्त माना जाता है। 

हनुमान
हनुमान- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Hanuman ji Ki Gada: भगवान श्री राम की सेवा में अपना जीवन समर्पित करने वाले महावीर हनुमान की महिमा अपरंपार है। हनुमान जी को भगवान श्री राम का परम भक्त माना जाता है। धर्म शास्त्रों के अनुसार धर्म की रक्षा के लिए हनुमान जी को अमरता का वरदान प्राप्त हुआ था। हनुमान जी बहुत शक्तिशाली और बलवान हैं। हनुमान जी को अमर माना जाता है। हनुमान जी के पास ऐसी दिव्य शक्तियां हैं, जो किसी अन्य देवता के पास नहीं हैं। हनुमान जी का रूप विशाल है। हनुमान जी के पास कई अस्त्र शस्त्र हैं, जिनमें उनकी गदा सबसे पहले आती है।चलिए आपको बताते हैं कि हनुमान जी गदा क्यों धारण  करते हैं 
विज्ञापन
विज्ञापन

हनुमान जी को गदा पसंद होने के कई कारण बताए गए हैं:


पौराणिक कथाओं के अनुसार रावण के पुत्र इंद्रजित द्वारा ब्रह्मास्त्र से प्रहार किए जाने पर हनुमान जी मूर्च्छित हो गए थे। तब भगवान विष्णु ने उन्हें लंका जलाने का वरदान दिया और उनकी गदा को अजेय बना दिया। इसके बाद से हनुमान जी ने लंका जलाने और सीता माता को मुक्त करवाने में अपनी गदा का प्रयोग किया। उनकी गदा के प्रहार से रावण और उसके योद्धा भयभीत हो गए थे। इस प्रकार गदा हनुमान जी के वीरता और शक्ति का प्रतीक बन गई। अन्य कथा के अनुसार भगवान हनुमान जी को भगवान शिव का अवतार माना जाता है, कहा जाता है भगवान शिव का त्रिशूल भी एक प्रकार की गदा ही है। इसलिए, हनुमान जी भी गदा धारण करते हैं। गदा एक शक्तिशाली है जो शक्ति और साहस का प्रतीक है  हनुमान जी बलशाली और साहसी भगवान हैं, इसलिए वे गदा धारण करते हैं।
विज्ञापन


हनुमान जी की पूजा कैसे करनी चाहिए ?

सबसे पहले स्नान करके स्वच्छ वस्त्र पहनें। 
पूजा स्थान को साफ कर लें। 
पूजा स्थान पर पूर्व या पश्चिम दिशा में मुख कर कर बैठें। 
लाल या पीले कपड़े पर हनुमान जी की मूर्ति या प्रतिमा स्थापित करें।
 जल से आचमन करें। 
भगवान हनुमान जी का ध्यान करें और प्रार्थना करें। 
हनुमान जी को जल, दूध, घी, और शहद से स्नान कराएं। 
अष्टगंध से तिलक लगाएं। 
लाल या पीले रंग का वस्त्र चढ़ाएं। 
हनुमान जी को  सिंदूर, चंदन, और फूल चढ़ाएं। 
जलाएं और कपूर जलाकर आरती करें। 
इस के बाद प्रसाद स्वरूप फलाहार, मिठाई, और पान चढ़ाएं।
आरती जरूर करें धूप और अगरबत्ती जलाएं। 
हनुमान जी के मन्त्रों का जाप करें या हनुमान चालीसा का पाठ करें। 
पूजा समाप्त करने से पहले भगवान हनुमान जी से अपनी मनोकामना प्रार्थना करें।

हनुमान जी को खुश करने के लिए हनुमान चलीसा का पाठ कैसे करना चाहिए ?


हनुमान चालीसा का पाठ सुबह या शाम के समय करना अधिक शुभ माना जाता है। पाठ शुरू करने से पहले गणेश जी और हनुमान जी का ध्यान करें। हनुमान चलिशा का पाठ पूरी तरह से ध्यान केंद्रित होकर करें। पाठ के दौरान मन को भटकने न दें। पाठ के बाद भगवान हनुमान जी का आशीर्वाद जरूर लें।

हनुमान चालीसा पाठ करने के कई लाभ होते हैं :

हनुमान जी की कृपा हमेशा बनी रहती है तथा मन शांत होता है। नकारात्मक शक्तियों से रक्षा होती है। साथ ही कहा जाता है की कष्टों और बाधाओं से मुक्ति मिलती है। साथ ही साथ हनुमान चलिशा का पाठ करने से साहस और आत्मविश्वास भी बढ़ता है। धन-धान्य और समृद्धि प्राप्त होती है।
मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। साथ ही हमेशा हनुमान जी आप सभी की रक्षा करते हैं 


हनुमान जी को खुश करने के लिए उपाय

- मंगलवार को व्रत रखें और हनुमान जी की पूजा करें।
- नियमित रूप से हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाएं।
- हनुमान जी को प्रिय केसर का भोग लगाएं।
- हनुमान जयंती और मंगलवार को हनुमान जी की भक्ति में विशेष रूप से समय बिताएं।


यह भी पढ़ें:-
Palmistry: हस्तरेखा में इन रेखाओं को माना जाता है बेहद अशुभ, व्यक्ति के जीवन में लाती हैं दुर्भाग्य
Upnayan Sanskar: क्या होता है उपनयन संस्कार जानिए महत्व और संस्कार विधि
Worshipping Trees: हिंदू धर्म में पेड़ों की पूजा का क्या है महत्व जानिए

 
विज्ञापन