विज्ञापन
Home  dharm  geeta ke updesh bhagwat geeta to 5 quotes for life and success know shri krishna geeta updesh in hindi

Geeta Updesh: गीता के इन 5 उपदेशों को अपने जीवन में करें शामिल ,हर कदम पर मिलेगी सफलता

जीवांजलि धर्म डेस्क Published by: निधि Updated Wed, 03 Jul 2024 08:00 AM IST
सार

Geeta Updesh In Hindi: श्रीमद्भागवत गीता में भगवान श्री कृष्ण की शिक्षाओं का वर्णन है। भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन के माध्यम से दुनिया को गीता का उपदेश दिया।

Geeta Updesh
Geeta Updesh- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Geeta Updesh In Hindi: श्रीमद्भागवत गीता में भगवान श्री कृष्ण की शिक्षाओं का वर्णन है। भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन के माध्यम से दुनिया को गीता का उपदेश दिया। कृष्ण ने अर्जुन को गीता तब सिखाई जब महाभारत युद्ध की रणभूमि में उनके कदम डगमगाने लगे थे। श्री कृष्ण की शिक्षाओं को सुनने के बाद अर्जुन अपने लक्ष्य को पूरा करने की ओर आगे बढ़े। कहते हैं कि जीवन की हर समस्या का समाधान गीता में मिलता है। श्री कृष्ण द्वारा गीता में कही गई बातें आज भी जीवन में आगे बढ़ते रहने की प्रेरणा देती हैं। ऐसे में किसी भी समस्या का समाधान पाने और जीवन में सफलता पाने के लिए गीता की कुछ बातों को ध्यान में रखना चाहिए। माना जाता है कि जो भी व्यक्ति जीवन में गीता की इन 5 बातों का पालन करता है, उसे हर काम में विजय जरूर प्राप्त होती है। ये हैं गीता के अनमोल उपदेश, जो जीवन को नई राह दिखाते हैं...
विज्ञापन
विज्ञापन

फल की इच्छा के बजाय कर्म पर ध्यान देना चाहिए

गीता में श्री कृष्ण ने कहा है कि मनुष्य को फल की इच्छा के बजाय कर्म पर ध्यान देना चाहिए। मनुष्य जैसा कर्म करता है, उसे वैसा ही फल मिलता है। इसलिए व्यक्ति को अच्छे कर्म करते रहना चाहिए।

आत्म मूल्यांकन

श्री कृष्ण के अनुसार, किसी व्यक्ति को उससे बेहतर कोई नहीं जान सकता, इसलिए खुद का मूल्यांकन करना बहुत जरूरी है। गीता में कहा गया है कि जो व्यक्ति अपने गुणों और कमियों को जानता है, वह अपने व्यक्तित्व का निर्माण करके हर काम में सफलता प्राप्त कर सकता है।
विज्ञापन

मन पर नियंत्रण

हमारा मन ही हमारे दुखों का कारण होता है। ऐसे में श्री कृष्ण ने गीता में कहा है कि जिस व्यक्ति ने अपने मन पर नियंत्रण कर लिया है, वह मन में उठने वाली व्यर्थ की चिंताओं और इच्छाओं से भी दूर रहता है। साथ ही व्यक्ति अपने लक्ष्य को आसानी से प्राप्त कर लेता है।

क्रोध पर नियंत्रण

क्रोध में व्यक्ति नियंत्रण खो देता है और गुस्से में गलत काम कर बैठता है। यहां तक कि कई बार व्यक्ति गुस्से में खुद को नुकसान भी पहुंचा लेता है। गीता में श्री कृष्ण ने कहा है कि क्रोध को खुद पर हावी नहीं होने देना चाहिए। अगर आपको गुस्सा आए तो खुद को शांत रखने की कोशिश करें।

स्पष्ट दृष्टि

गीता के अनुसार व्यक्ति को संदेह या संशय की स्थिति में नहीं रहना चाहिए, जो लोग संदेह की स्थिति में रहते हैं, वे कभी सफल नहीं हो सकते। जीवन में व्यक्ति को स्पष्ट दृष्टि रखनी चाहिए।

यह भी पढ़ें-
Sawan Month Shiva Puja Vidhi: भगवान शिव की पूजा में क्यों वर्जित है शंख? जानिए क्या है वजह
Hariyali Teej 2024: इस साल कब मनाई जाएगी हरियाली तीज जानिए सही तिथि और शुभ मुहूूर्त
First Wedding Invitation: सबसे पहले किसे दिया जाता है शादी का कार्ड, जानिए
विज्ञापन