विज्ञापन
Home  dharm  durga kawach stotra path do recite this kawach during gupt navratri maa durga will shower her blessings

Durga Kawach Stotra Path: गुप्त नवरात्रि में जरूर करें इस कवच का पाठ, मां दुर्गा बरसाएंगी अपनी विशेष कृपा

जीवांजलि धर्म डेस्क Published by: निधि Updated Sun, 30 Jun 2024 04:49 PM IST
सार

Durga Kawach Stotra Path: इस साल 07 जुलाई से गुप्त नवरात्रि की धूम देखने को मिल रही है। गुप्त नवरात्रि को मां की पूजा और साधना के लिए बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है।

Durga Kawach Stotra Path
Durga Kawach Stotra Path- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Durga Kawach Stotra Path: इस साल 07 जुलाई से गुप्त नवरात्रि की धूम देखने को मिल रही है। गुप्त नवरात्रि को मां की पूजा और साधना के लिए बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। धार्मिक मान्यता है कि गुप्त नवरात्रि में लोग 09 दिनों तक गुप्त रूप से पूजा-पाठ करते हैं। इससे उन्हें विशेष लाभ मिलता है और उन्हें जीवन में सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है। इसके अलावा 09 दिनों तक देवी की पूजा करने वाले लोगों को तंत्र सिद्धि भी प्राप्त होती है, लेकिन जो लोग गुप्त साधना नहीं करते हैं, उन्हें गुप्त नवरात्रि के दौरान दुर्गा चालीसा का पाठ जरूर करना चाहिए। मान्यता है कि गुप्त नवरात्रि के दौरान दुर्गा चालीसा का पाठ करने से भक्तों के सभी दुख दूर हो जाते हैं और हर अधूरी मनोकामना पूरी होती है।
विज्ञापन
विज्ञापन


 

श्री दुर्गा कवच
Durga Kawach Stotra Path

शृणु देवि प्रवक्ष्यामि कवचं सर्वसिद्धिदम्।
पठित्वा पाठयित्वा च नरो मुच्येत सङ्कटात् ॥
उमा देवी शिरः पातु ललाटं शूलधारिणी।
चक्षुषी खेचरी पातु वदनं सर्वधारिणी ॥
जिह्वां च चण्डिका देवी ग्रीवां सौभद्रिका तथा।
अशोकवासिनी चेतो द्वौ बाहू वज्रधारिणी ॥
हृदयं ललिता देवी उदरं सिंहवाहिनी।
कटिं भगवती देवी द्वावूरू विन्ध्यवासिनी ॥
महाबाला च जङ्घे द्वे पादौ भूतलवासिनी
एवं स्थिताऽसि देवि त्वं त्रैलोक्यरक्षणात्मिके।
रक्ष मां सर्वगात्रेषु दुर्गे दॆवि नमोऽस्तु ते ॥

करें इन मंत्रों का जाप 

सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके।
शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणि नमोऽस्तुते।।

ॐ जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी।
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तुते।।
या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

या देवी सर्वभूतेषु लक्ष्मीरूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।
या देवी सर्वभूतेषु तुष्टिरूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।
या देवी सर्वभूतेषु मातृरूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

या देवी सर्वभूतेषु दयारूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।
या देवी सर्वभूतेषु बुद्धिरूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।
या देवी सर्वभूतेषु शांतिरूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।
विज्ञापन

इस तरह करें मंत्र जाप 
दुर्गा सप्तशती के मंत्रों का अगर नियमानुसार जाप किया जाए तो साधना करने वाले व्यक्ति की हर समस्या का समाधान हो सकता है. व्यक्ति को सुख, शांति और समृद्धि प्राप्त होती है. दुर्गा सप्तशती में हर समस्या के समाधान के लिए एक खास मंत्र बताया गया है. ये मंत्र बहुत ही चमत्कारी हैं, अगर इनका जाप नियमानुसार किया जाए तो असंभव लगने वाले कार्य भी संभव हो जाते हैं. ये मंत्र बहुत जल्द अपना असर दिखाते हैं.

यह भी पढ़ें-
Sawan Month Shiva Puja Vidhi: भगवान शिव की पूजा में क्यों वर्जित है शंख? जानिए क्या है वजह
Hariyali Teej 2024: इस साल कब मनाई जाएगी हरियाली तीज जानिए सही तिथि और शुभ मुहूूर्त
First Wedding Invitation: सबसे पहले किसे दिया जाता है शादी का कार्ड, जानिए
विज्ञापन