विज्ञापन
Home  dharm  chaitra navratri 2024 when is ashtami navmi of chaitra navratri know the date 2024 04 01

Navratri 2024: कब है चैत्र नवरात्रि की अष्टमी-नवमी ? जानिए तिथि और शुभ मुहूर्त

jeevanjali Published by: कोमल Updated Tue, 02 Apr 2024 11:22 AM IST
सार

Navratri 2024: नवरात्रि 9 अप्रैल 2024 से शुरू हो रही है। पहले दिन घटस्थापना के साथ ही मां नवरात्रि के पूरे नौ दिनों तक मां दुर्गा की 9 शक्तियों की पूजा की जाती है। चैत्र नवरात्रि का हर दिन बहुत खास होता है

चैत्र नवरात्रि 2024:
चैत्र नवरात्रि 2024:- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Navratri 2024: नवरात्रि 9 अप्रैल 2024 से शुरू हो रही है। पहले दिन घटस्थापना के साथ ही मां नवरात्रि के पूरे नौ दिनों तक मां दुर्गा की 9 शक्तियों की पूजा की जाती है। चैत्र नवरात्रि का हर दिन बहुत खास होता है लेकिन आखिरी तीन दिन सप्तमी, महाअष्टमी और महानवमी अधिक महत्वपूर्ण माने जाते हैं।अष्टमी-नवमी के दिन घर-घर में कुल देवी का पूजन, हवन, कन्या पूजन आदि धार्मिक अनुष्ठान किये जाते हैं। आइए जानते हैं चैत्र नवरात्रि 2024 की दुर्गा अष्टमी और महानवमी की तिथि, शुभ समय और महत्व।
विज्ञापन
विज्ञापन

नवरात्रि 2024 घटस्थापना समय

कलश स्थापना मुहूर्त - प्रातः 06.02 – प्रातः 10.16 (9 अप्रैल 2024)

अभिजीत मुहूर्त - सुबह 11.57 बजे - दोपहर 12.48 बजे (9 अप्रैल 2024) इस दिन मां दुर्गा घोड़े पर सवार होकर आएंगी। पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है.

नवरात्रि 2024 अष्टमी कब है? 

चैत्र नवरात्रि में महाष्टमी 16 अप्रैल 2024 को है। नवरात्रि के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा की जाती है। चैत्र शुक्ल अष्टमी तिथि 15 अप्रैल 2024 को दोपहर 12.11 बजे शुरू होगी और 16 अप्रैल 2024 को दोपहर 01.23 बजे तक रहेगी.

विज्ञापन
प्रातःकाल का समय- प्रातः 09.08 बजे से दोपहर 01.58 बजे तक
रात्रि समय - रात्रि 08.11 बजे से रात्रि 09.34 बजे तक

नवरात्रि 2024 नवमी कब है? 

चैत्र नवरात्रि की महानवमी 17 अप्रैल 2024 को है। इस दिन देवी की 9वीं शक्ति मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। चैत्र शुक्ल नवमी तिथि 16 अप्रैल 2024 को दोपहर 01.23 बजे से 17 अप्रैल 2024 को दोपहर 03.14 बजे तक रहेगी. इस दिन नवमी तिथि के अंत में व्रत खोला जाएगा.

प्रातःकाल का समय - प्रातः 05.53 बजे से प्रातः 09.07 बजे तक
दोपहर का समय - 03.34 बजे - 06.48 बजे
रात्रि समय - रात्रि 08.11 बजे से रात्रि 10.57 बजे तक

नवरात्रि Navratri 2024 की अष्टमी-नवमी का महत्व 

चैत्र नवरात्रि की अष्टमी और नवमी को देवी की पूजा, कन्या भोग और हवन करके व्रत के 9 दिनों की पूजा और व्रत पूरा किया जाता है। ऐसा कहा जाता है कि जो लोग नवरात्रि के नौ दिनों का व्रत नहीं कर पाते हैं, उन्हें आखिरी दो दिनों में देवी दुर्गा की पूजा करने से पूरे नवरात्रि के दौरान किए गए अनुष्ठानों के समान फल मिलता है। दो ही दिनों में देवी मां की पूजा करने वालों की प्रसन्नता, शक्ति, तेज, शक्ति, आत्मविश्वास और ऊर्जा में वृद्धि हो जाती है। चैत्र नवरात्रि की महानवमी को राम नवमी यानी श्री राम का जन्मोत्सव भी मनाया जाता है।
विज्ञापन