विज्ञापन
Home  dharm  brahma muhurat mantra do chant these mantras during brahma muhurat you will get benefits

Brahma Muhurat Mantra: ब्रह्म मुहूर्त में जरूर करें इन मंत्रों का जाप , मिलेगा लाभ

जीवांजलि धार्मिक डेस्क Published by: कोमल Updated Sun, 30 Jun 2024 06:07 AM IST
सार

Brahma Muhurat Mantra: हिंदू धर्म में ब्रह्म मुहूर्त को बहुत ही पवित्र समय माना जाता है। शास्त्रों में माना जाता है कि जो साधक ब्रह्म मुहूर्त में उठकर भगवान का ध्यान करता है, उसे जीवन में विशेष लाभ मिलता है।

ब्रह्म मुहूर्त
ब्रह्म मुहूर्त- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Brahma Muhurat Mantra: हिंदू धर्म में ब्रह्म मुहूर्त को बहुत ही पवित्र समय माना जाता है। शास्त्रों में माना जाता है कि जो साधक ब्रह्म मुहूर्त में उठकर भगवान का ध्यान करता है, उसे जीवन में विशेष लाभ मिलता है। ब्रह्म मुहूर्त मुख्य रूप से सुबह 04 बजे से 05:30 बजे के बीच का समय होता है। ऐसे में आप ब्रह्म मुहूर्त में कुछ मंत्रों का जाप करके शुभ फल प्राप्त कर सकते हैं।

विज्ञापन
विज्ञापन

क्या है ब्रह्ममुहूर्त (What Is Brahmamuhurta?)

'ब्रह्ममुहूर्त' का अर्थ है रात्रि का अंतिम पहर या सूर्योदय से डेढ़ घंटा पहले का समय। सूर्योदय से चार घड़ी (लगभग डेढ़ घंटा) पहले ब्रह्ममुहूर्त में उठ जाना चाहिए। इस समय सोना शास्त्रों में वर्जित है। ब्रह्म का अर्थ है परम तत्व या ईश्वर। मुहूर्त का अर्थ है अनुकूल समय। रात्रि का अंतिम पहर यानी सुबह 4 से 5.30 बजे तक का समय ब्रह्ममुहूर्त कहलाता है।
 

ब्रह्म मुहूर्त का महत्व (Importance of Brahma Muhurta)

ब्रह्म मुहूर्त में जागना हमारे जीवन के लिए बहुत लाभकारी है। इससे हमारा शरीर स्वस्थ रहता है और हम पूरे दिन ऊर्जावान बने रहते हैं। ऋग्वेद में कहा गया है कि- प्रात: रत्नं प्रातरित्वा दधाति तम चिकित्वां प्रतिगृह्या नि धत्ते। तेन प्रजां वर्धयामां आयु रईस्पोषेण सचते सुविरः। अर्थात जो व्यक्ति प्रातः सूर्योदय से पहले जागता है, उसे उत्तम स्वास्थ्य का रत्न प्राप्त होता है, इसीलिए बुद्धिमान लोग उस समय को व्यर्थ नहीं गंवाते। जो व्यक्ति प्रातः काल जल्दी उठता है, वह बलवान, स्वस्थ, बलवान, सुखी, दीर्घायु और वीर होता है। हमारे ऋषियों ने भी इस मुहूर्त का विशेष महत्व बताया है। उनके अनुसार यह समय निद्रा त्यागने के लिए सर्वश्रेष्ठ है। ब्रह्म मुहूर्त में जागने से सौंदर्य, बल, विद्या, बुद्धि और स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है।
विज्ञापन

ब्रह्म मुहूर्त में इन मंत्रों का करें जाप Brahm Muhoort Mein In Mantron Ka Karen Jaap


कराग्रे वसते लक्ष्मी, करमध्ये सरस्वती, करमूले स्थितो ब्रह्मा प्रभाते करदर्शनम्'

ब्रह्म मुहूर्त में इस मंत्र का जाप करते समय अपनी हथेलियों को देखना चाहिए। ऐसा करने से साधक पर धन की देवी लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है।

ब्रह्मा मुरारी त्रिपुरांतकारी भानु: शशि भूमि सुतो बुधश्च।

गुरुश्च शुक्र शनि राहु केतव सर्वे ग्रहा शांति करा भवंतु॥


ब्रह्म मुहूर्त में इस मंत्र का जाप करना विशेष लाभकारी माना गया है। मान्यताओं के अनुसार, इससे देवी-देवताओं की कृपा आपके ऊपर बनी रहती है। इसके लिए मंत्र जाप के दौरान अपनी आंखों को बंद कर लें। मंत्र जाप पूरा होने के बाद हाथ में थोड़ा-सा जल लेकर मनोकामना मांगें और जल छोड़ दें। इससे आपकी मनोकामना पूरी हो सकती है।

गायत्री मंत्र

ॐ भूर्भुवः स्वः

तत्सवितुर्वरेण्यं

भर्गो देवस्यः धीमहि

धियो यो नः प्रचोदयात् ॥

प्रतिदिन ब्रह्म मुहूर्त में गायत्री मंत्र का जाप करना बहुत लाभकारी माना जाता है। गायत्री मंत्र का जाप करना खासकर बच्चों के लिए बहुत लाभकारी माना जाता है। इससे एकाग्रता बढ़ती है, जिससे बच्चों को पढ़ाई में भी लाभ मिलता है।



महामृत्युंजय मंत्र

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् |

उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात् ||

यह भगवान शिव को समर्पित सबसे शक्तिशाली मंत्रों में से एक है। यदि आप प्रतिदिन ब्रह्म मुहूर्त में इस मंत्र का जाप करते हैं, तो यह भय, तनाव और चिंता से मुक्ति दिलाता है।

यह भी पढ़ें-
Kaner Plant: घर में कनेर का पौधा लगाना शुभ है या अशुभ जानिए
Mangal Dosh Nivaran: किस मंदिर में होती मंगल दोष की पूजा जानिए पूरी जानकारी
Kanwar Yatra 2024: इस साल कब से शुरु होगी कांवड़ यात्रा, जानिए तिथि और महत्व
विज्ञापन