विज्ञापन
Home  dharm  ashadha month 2024 when will the month of ashadha start know the date importance and rules

Ashadha Month 2024: कब से शुरु होगा आषाढ़ मास , जानिए तिथि,महत्व और नियम

जीवांजलि धार्मिक डेस्क Published by: कोमल Updated Mon, 17 Jun 2024 08:09 AM IST
सार

Ashadha Month 2024:आषाढ़ का महीना चौथा महीना होता है. इस महीने से वर्षा ऋतु की शुरुआत होती है, वातावरण में बदलाव होता है. धार्मिक दृष्टि से यह महीना देवी दुर्गा, विष्णु जी, सूर्य देव की पूजा के लिए बहुत खास माना जाता है.

आषाढ मास
आषाढ मास- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Ashadha Month 2024:आषाढ़ का महीना चौथा महीना होता है. इस महीने से वर्षा ऋतु की शुरुआत होती है, वातावरण में बदलाव होता है. धार्मिक दृष्टि से यह महीना देवी दुर्गा, विष्णु जी, सूर्य देव की पूजा के लिए बहुत खास माना जाता है. इस महीने से देवी-देवताओं का विश्राम समय शुरू होता है जो चार महीने तक चलता है. इसे चातुर्मास कहते हैं. आइए जानते हैं 2024 में आषाढ़ का महीना कब से शुरू हो रहा है. इसका महत्व, नियम, व्रत और त्योहार, सभी महत्वपूर्ण जानकारी
विज्ञापन
विज्ञापन

आषाढ़ मास 2024 तिथि

 आषाढ़ मास 23 जून 2024 से शुरू हो रहा है, यह महीना 21 जुलाई 2024 को समाप्त होगा. इसके बाद सावन का महीना शुरू होगा. आषाढ़ मास में जप, तीर्थ यात्रा से कभी न खत्म होने वाला पुण्य मिलता है. 

आषाढ़ मास का महत्व

 आषाढ़ मास को मनोकामनाएं पूरी करने वाला महीना कहा जाता है. इस महीने में पौराणिक महत्व के मंदिरों और प्राचीन तीर्थों के दर्शन करने चाहिए. आषाढ़ मास की देवशयनी एकादशी पर विष्णु जी योग निद्रा में चले जाते हैं। श्री हरि की पूजा करने से विचारों में शुद्धता आती है, जीवन सुखमय बनता है। वहीं आषाढ़ मास की गुप्त नवरात्रि में देवी की पूजा करने से कष्टों से मुक्ति मिलती है।
विज्ञापन

आषाढ़ मास के नियम


जब एक ऋतु समाप्त होती है और दूसरी ऋतु शुरू होती है, उस समय हमारी पाचन शक्ति पर सीधा असर पड़ता है। आषाढ़ मास में वर्षा ऋतु के कारण संक्रमण फैलता है, जिसके कारण खान-पान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। जीवनशैली में लापरवाही के कारण स्वास्थ्य खराब हो सकता है।

आषाढ़ मास में क्या करें


प्रतिदिन सुबह पूजा करते समय मंत्र जाप और ध्यान करना चाहिए। ओम नमः शिवाय, ओम नमो भगवते वासुदेवाय, ओम रामदूताय नमः, क्रीं कृष्णाय नमः, ओम राम रामाय नमः मंत्रों का जाप करें।

आषाढ़ मास में प्रतिदिन सुबह सूर्योदय से पहले उठकर सूर्य को जल चढ़ाना चाहिए।

जरूरतमंद लोगों को धन और अनाज के साथ-साथ कपड़े और छाते का दान करना चाहिए।

इस महीने में तीर्थ यात्रा करने से धार्मिक लाभ के साथ-साथ स्वास्थ्य लाभ और मानसिक शांति भी मिलती है।

आषाढ़ महीने में गुरु पूर्णिमा मनाई जाती है। ऐसे में इस महीने गुरुओं की पूजा करें और उनका सम्मान करें। उनके आशीर्वाद से जीवन में खुशियां आती हैं।

आषाढ़ माह 2024 व्रत एवं त्यौहार (आषाढ़ माह 2024 कैलेंडर)


23 जून 2024 (रविवार) - आषाढ़ माह प्रारंभ
25 जून 2024 (मंगलवार) - कृष्णपिंगल संकष्टी चतुर्थी, पंचक प्रारंभ
2 जुलाई 2024 (मंगलवार) - योगिनी एकादशी
3 जुलाई 2024 (बुधवार) - प्रदोष व्रत (कृष्ण)
4 जुलाई 2024 (गुरुवार) - मासिक शिवरात्रि
5 जुलाई 2024 (शुक्रवार) - आषाढ़ अमावस्या
6 जुलाई 2024 (शनिवार) - आषाढ़ गुप्त नवरात्रि
7 जुलाई 2024 (रविवार) - जगन्नाथ रथ यात्रा
9 जुलाई 2024 (मंगलवार) - विनायक चतुर्थी
16 जुलाई 2024 (मंगलवार) - कर्क संक्रांति
17 जुलाई 2024 (बुधवार) - देवशयनी एकादशी, आषाढ़ी एकादशी
19 जुलाई 2024 (शुक्रवार) - प्रदोष व्रत (शुक्ल)
20 जुलाई 2023 (शनिवार) - कोकिला व्रत
21 जुलाई 2024 (रविवार) - गुरु पूर्णिमा, व्यास पूर्णिमा
देवशयनी एकादशी 2024 तिथि: देवशयनी एकादशी कब है? जानें तिथि, शुभ मुहूर्त, इस दिन से बंद हो जाएंगे शुभ कार्य
यह भी पढ़ें:-
Palmistry: हस्तरेखा में इन रेखाओं को माना जाता है बेहद अशुभ, व्यक्ति के जीवन में लाती हैं दुर्भाग्य
Upnayan Sanskar: क्या होता है उपनयन संस्कार जानिए महत्व और संस्कार विधि
Worshipping Trees: हिंदू धर्म में पेड़ों की पूजा का क्या है महत्व जानिए



 
विज्ञापन