विज्ञापन
Home  dharm  ashadha gupt navratri 2024 will start from july 6 keep these things in mind while worshiping maa durga

Gupt Navratri: 6 जुलाई से शुरू होंगे आषाढ़ गुप्त नवरात्रि, पूजा करते समय रखें इन बातों का ध्यान

जीवांजलि धर्म डेस्क Published by: निधि Updated Sat, 06 Jul 2024 11:35 AM IST
सार

Ashadha Gupt Navratri 2024: सनातन धर्म में नवरात्रि का विशेष महत्व है। नवरात्रि के दौरान देवी मां के नौ रूपों की पूजा की जाती है। नवरात्रि का त्यौहार साल में चार बार मनाया जाता है,

Ashadha Gupt Navratri 2024:
Ashadha Gupt Navratri 2024:- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Ashadha Gupt Navratri 2024: सनातन धर्म में नवरात्रि का विशेष महत्व है। नवरात्रि के दौरान देवी मां के नौ रूपों की पूजा की जाती है। नवरात्रि का त्यौहार साल में चार बार मनाया जाता है, एक चैत्र नवरात्रि, दूसरा शारदीय नवरात्रि और दो गुप्त नवरात्रि। गुप्त नवरात्रि उन लोगों के लिए बहुत महत्वपूर्ण मानी जाती है जो तंत्र मंत्र की साधना में लीन रहते हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

9 देवियों की जगह 10 देवियों की होती है पूजा

जहां नवरात्रि में नौ देवियों की विशेष पूजा का प्रावधान है, वहीं गुप्त नवरात्रि में 10 महाविद्याओं की पूजा की जाती है। गुप्त नवरात्रि में पूजी जाने वाली 10 महाविद्याएं हैं मां काली, मां तारा देवी, मां त्रिपुर सुंदरी, मां भुवनेश्वरी, मां छिन्नमस्ता, मां त्रिपुर भैरवी, मां धूमावती, मां बगलामुखी, मां मातंगी और मां कमला देवी। इस नवरात्रि में तंत्र और मंत्र दोनों तरीकों से भगवती की पूजा की जाती है।

नाम के अनुसार जहां इस गुप्त नवरात्रि में की जाने वाली शक्ति की पूजा के बारे में कम ही लोग जानते हैं, वहीं इससे जुड़ी पूजा-अर्चना को भी लोगों से गुप्त रखा जाता है। मान्यता है कि साधक जितने गुप्त तरीके से देवी की पूजा करता है, भगवती की उतनी ही अधिक कृपा उस पर बरसती है।
विज्ञापन

साल में चार बार आती हैं नवरात्रि

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, साल में चार बार नवरात्रि आती हैं। दो जागृत और दो गुप्त नवरात्रि होती हैं। चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से जागृत नवरात्रि मनाई जाती है। इसके बाद दूसरी जागृत नवरात्रि शारदीय नवरात्रि आश्विन शुक्ल पक्ष में मनाई जाती है। जबकि, पहली गुप्त नवरात्रि आषाढ़ शुक्ल पक्ष से शुरू होती है। साथ ही, दूसरी गुप्त नवरात्रि माघ महीने में शुरू होती है।
 

पूजा के दौरान सावधानियां

- गुप्त नवरात्रि में काले कपड़े नहीं पहनने चाहिए। 
- गुप्त नवरात्रि के 9 दिनों के दौरान चमड़े से बनी चीजें न ही खरीदना चाहिए और न ही पहनना।  
 - गुप्त नवरात्रि के दौरान किसी भी  के लिए अपशब्द का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। 
- किसी भी नारी का अपमान नहीं करना चाहिए। ऐसे करने से माता रुष्ट हो जाती हैं।
- माता दुर्गा की आराधना के इस पर्व के दौरान बाल नहीं कटवाने चाहिए। इसके अलावा इस दौरान बच्चों का मुंडन संस्कार भी वर्जित है।
- अगर आप गुप्त नवरात्रि के दौरान व्रत व अनुष्ठान कर रहे हैं तो आपको दिन में सोना नहीं चाहिए।
- गुप्त नवरात्रि के दौरान भक्तों को प्याज, लहसुन व मांसाहार से दूरी बनाकर रखनी चाहिए।

गुप्त नवरात्रि में तांत्रिक सिद्धि प्राप्त होती है


इन नवरात्रि के दौरान धार्मिक गुरु और अन्य तांत्रिक या अन्य लोग भी माता के बीज मंत्रों के माध्यम से स्वयं सिद्धि प्राप्त करते हैं। इसके लिए वे गुप्त नवरात्रि में रात्रि पूजा करते हैं और माता के बीज मंत्रों का जाप करते हैं।
 
विज्ञापन