विज्ञापन
Home  dharm  ashadha amavasya 2024 upay astrological remedies for kaal sarp dosh and pitra dosh nivaran

Ashadha Amavasya 2024: काल सर्प और पितृ दोष से हैं परेशान? तो आषाढ़ अमावस्या के दिन जरूर करें ये उपाय

जीवांजलि धर्म डेस्क Published by: निधि Updated Mon, 24 Jun 2024 08:00 AM IST
सार

Ashadha Amavasya 2024 Upay: हिंदू कैलेंडर के अनुसार, हर महीने कृष्ण पक्ष की अंतिम तिथि को अमावस्या आती है. इस बार आषाढ़ मास की अमावस्या तिथि 05 जुलाई 2024, शुक्रवार को है.

Ashadha Amavasya 2024 Upay
Ashadha Amavasya 2024 Upay- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Ashadha Amavasya 2024 Upay: हिंदू कैलेंडर के अनुसार, हर महीने कृष्ण पक्ष की अंतिम तिथि को अमावस्या आती है. इस बार आषाढ़ मास की अमावस्या तिथि 05 जुलाई 2024, शुक्रवार को है. आषाढ़ मास की अमावस्या को आषाढ़ी अमावस्या या हलहारिणी अमावस्या भी कहा जाता है. हिंदू धर्म में आषाढ़ मास की अमावस्या तिथि को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है. इस दिन किसी पवित्र नदी में स्नान करने के बाद पितरों के निमित्त दान-पुण्य और तर्पण करने का विधान है. इससे पितरों का आशीर्वाद आप पर बना रहता है. पितृ दोष और कालसर्प दोष को दूर करने के लिए अमावस्या तिथि को बहुत शुभ माना जाता है. इसके अलावा इस दिन कुछ उपाय करने से पितृ दोष और कालसर्प दोष से मुक्ति मिलती है. ऐसे में आइए जानते हैं आषाढ़ अमावस्या के दिन पितृ दोष, काल सर्प दोष से मुक्ति पाने के उपाय...
विज्ञापन
विज्ञापन

कालसर्प दोष के उपाय Remedies for Kalsarp Dosha

अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में कालसर्प दोष है तो उसे आषाढ़ अमावस्या के दिन भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए। ध्यान रहे कि यह पूजा केवल राहुकाल में ही करनी चाहिए, क्योंकि कुंडली में राहु और केतु की विशेष स्थिति के कारण कालसर्प दोष होता है। इसके अलावा इस दिन स्नान करने के बाद नदी के किनारे नाग-नागिन के जोड़े की पूजा करें। पूजा के बाद इस जोड़े को नदी में प्रवाहित कर दें। मान्यता है कि ऐसा करने से कुंडली से कालसर्प दोष दूर हो जाता है।

पितृ दोष से मुक्ति के उपाय Remedies To Get Rid Of Pitra Dosh

पितृ दोष से मुक्ति के लिए सुबह स्नान के बाद पितरों को तर्पण करें। पितरों के लिए किसी गरीब ब्राह्मण को वस्त्र, भोजन आदि दान करें। इससे पितृ दोष से मुक्ति मिलती है।
विज्ञापन

पीपल के पेड़ के नीचे जलाएं दीपक 

आषाढ़ अमावस्या के दिन शाम को पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए। मान्यता है कि इससे से पितरों की आत्मा को शांति प्राप्त होती है।

इस उपाय से चमकेगा भाग्य 

आषाढ़ अमावस्या के दिन आटे में चीनी मिलाकर काली चींटियों को खिलाएं। मान्यता है कि इस उपाय से आपके पाप नष्ट होंगे और भाग्योदय होगा। 

धन-वैभव में वृद्धि के लिए 

आषाढ़ अमावस्या के दिन शाम के समय गाय के घी में केसर मिलाकर दीपक जलाएं। ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होंगी और आपके धन-वैभव में वृद्धि होगी। 
 
विज्ञापन