विज्ञापन
Home  dharm  ashadh month 2024 know which fasts and festivals will fall in the month of ashadh

Ashadh Month 2024: आषाढ़ माह में पड़ेंगे कौन-कौन से व्रत और त्योहार जानिए

जीवांजलि धार्मिक डेस्क Published by: कोमल Updated Thu, 27 Jun 2024 06:07 AM IST
सार

Ashadh Month 2024: आषाढ़ माह का हिंदू धर्म में विशेष महत्व बताया गया है। पंचांग के अनुसार आषाढ़ हिंदी कैलेंडर का चौथा महीना होता है । आपको बता दें कि हिंदी कैलेंडर के सभी महीनों के नाम नक्षत्रों पर आधारित होते हैं।

आषाढ़ माह 2024
आषाढ़ माह 2024- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Ashadh Month 2024: आषाढ़ माह का हिंदू धर्म में विशेष महत्व बताया गया है। पंचांग के अनुसार आषाढ़ हिंदी कैलेंडर का चौथा महीना होता है । आपको बता दें कि हिंदी कैलेंडर के सभी महीनों के नाम नक्षत्रों पर आधारित होते हैं। और हर महीने की पूर्णिमा को चंद्रमा जिस नक्षत्र में होता है  उस महीने का नाम उसी नक्षत्र पर रखा गया है। आषाढ़ महीने का नाम भी पूर्वाषाढ़ा और उत्तराषाढ़ा नक्षत्रों पर आधारित हैं । आपको बता दें कि आषाढ़ महीने की पूर्णिमा को चंद्रमा इन्हीं दो नक्षत्रों में से एक नक्षत्र में रहता है जिसके चलते इस महीने का नाम आषाढ़ पड़ा है। 
विज्ञापन
विज्ञापन

आषाढ़ माह 2024 व्रत-त्योहार कैलेंडर


योगिनी एकादशी - 2 जुलाई 2024

प्रदोष व्रत- 3 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि- 4 जुलाई 2024

आषाढ़ अमावस्या- 5 जुलाई 2024

आषाढ़ गुप्त नवरात्रि- 6 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथयात्रा- 7 जुलाई 2024

विनायक चतुर्थी- 9 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी- 17 जुलाई 2024

प्रदोश व्रत- 19 जुलाई 2024

कोकिला व्रत- 20 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा, व्यास पूर्णिमा- 21 जुलाई 2024

आषाढ़ माह में जरूर करें ये काम 


- आषाढ़ माह में आप रोज सुबह उठकर भगवान सूर्य के मंत्रों का जाप करें और भगवान सूर्य  देव को जल  जरूर चढ़ाएं 

- आषाढ़ महीना दान करने के लिए बहुत शुभ माना जाता है तो इस दिन जरूरतमंदों और गरीबों के बीच अन्न, धन, वस्त्र और छाते का दान जरूर करें 

- आषाढ महीने में रोजाना भगवान शिव , भगवान विष्णु और भगवान कृष्ण का नाम जपें और  'ऊँ नम: शिवाय', 'ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय', 'कृं कृष्णाय नम:', 'ऊँ रां रामाय नम:', 'ऊँ रामदूताय नम:', मंत्र का जाप करें।
विज्ञापन

 
- इस महीने में गुरुजनों का सम्मान जरूर करें क्योंकि इसी माह में गुरु पूर्णिमा आती है। गुरुजनों की पूजा करने से जीवन में समृद्धि आती है 

- आषाढ़ मास में तामसिक चीजों का भूल से भी सेवन नहीं करना चाहिए 

- इसके साथ ही आषाढ़ में हरी पत्तेदार सब्जी और तेल वाली चीजें नहीं खाना  चाहिए 

Akshat Puja: पूजा में क्यों चढ़ाया जाता है अक्षत, जानिए अक्षत का महत्व

Lord Vishnu: भगवान विष्णु को क्यों कहा जाता है नारायण ? जानिए इसके पीछे की कहानी

Shani Upay: कैसे पहचानें कुंडली में कमजोर शनि के लक्षण? जानिए शनि ग्रह को मजबूत करने के उपाय



 
विज्ञापन