विज्ञापन
Home  dharm  according to lal kitab what are the simplest remedies for the 9 planets

Lal Kitab Upay: कुंडली में ग्रह कमजोर होने के ये हैं संकेत! जानिए सरल उपाय?

जीवांजलि धर्म डेस्क Published by: निधि Updated Mon, 01 Jul 2024 06:54 PM IST
सार

Lal Kitab Upay remedies: अक्सर लोग किसी भी काम को करने के लिए बहुत मेहनत करते हैं फिर भी कई बार ऐसा होता है कि बहुत अच्छे से करने के बाद भी मेहनत सफल नहीं हो पाती है।

Lal Kitab Upay
Lal Kitab Upay- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Lal Kitab Upay remedies: अक्सर लोग किसी भी काम को करने के लिए बहुत मेहनत करते हैं फिर भी कई बार ऐसा होता है कि बहुत अच्छे से करने के बाद भी मेहनत सफल नहीं हो पाती है। यह सब ग्रह-नक्षत्रों की खराब स्थिति और प्रभाव के कारण हो सकता है। ऐसे में ग्रहों को शांत रखना बहुत जरूरी है। वैदिक ज्योतिष की तरह लाल किताब में भी ग्रह शुभ और अशुभ फल देते हैं। किसी घर में ग्रह शुभ होता है तो किसी घर में अशुभ हो जाता है। आज हम आपको लाल किताब के अनुसार 9 ग्रहों के उपाय बता रहे हैं जिन्हें करने से आप अपने अशुभ ग्रह को प्रसन्न कर सकते हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

चंद्रमा 

श्मशान या अस्पताल में पीने के पानी की दुकान लगवाएं। खरगोश पालें। जलाशय में पैसा डालें। सोमवार को मिश्री को सफेद कपड़े में बांधकर जल में प्रवाहित करें। इससे चंद्रमा शुभ होगा।

मंगल

इस ग्रह को मजबूत करने के लिए गुड़ मिलाकर सूर्य को जल अर्पित करें। रेवड़ी जल में प्रवाहित करें। घर में हथियार न रखें। हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाएं। लाल रंग का कपड़ा अपने पास रखें और भाई-भाभी की सेवा करें।
विज्ञापन

बुध 

बुध ग्रह को बकरी को दान करें। रात को मूंग भिगोकर सुबह किसी जानवर को खिला दें। मांस न खाएं। बुआ का सम्मान करें। साबुत मूंग की दाल न खाएं। गले में तांबे का सिक्का पहनें। ऐसा करने से बुध अनुकूल होगा।

बृहस्पति

केसर का तिलक लगाएं, सोने की चेन पहनें। सांप को दूध पिलाएं। पीले कपड़े में चने की दाल बांधकर विष्णु मंदिर में दान करें। मंदिर की रोजाना सफाई करें।

शुक्र

इस ग्रह को प्रसन्न करने के लिए गाय और माता की सेवा करें। सफेद पत्थर को साफ करके उस पर चंदन घिसकर जल में प्रवाहित करें। गुड़ न खाएं। अच्छा चरित्र बनाए रखें। काली गाय को घास खिलाएं और स्त्रियों का अपमान न करें।

शनि 

बंदर पालें और उन्हें चने खिलाएं। बरगद के पेड़ की जड़ को दूध से सींचें और उस मिट्टी का तिलक लगाएं। शनिवार को काला सुरमा जमीन में गाड़ दें। कम से कम 10 अंधे लोगों को शनिवार को भोजन कराएं। भगवान गणेश की सेवा करें।

राहु 

अपने पास ठोस चांदी की गेंद रखें। अपने ससुराल वालों से कोई बिजली का सामान न लें। अपनी मां से बहस और विवाद न करें। रसोई में बैठकर खाना खाएं और अपनी कमाई का कुछ हिस्सा अपनी बहन पर खर्च करें।

केतु 

लड़कियों की सेवा करें। केसर और चंदन का तिलक लगाएं। अच्छा आचरण बनाए रखें। लगातार 4 दिनों तक सात केले पानी में प्रवाहित करें। काले और सफेद तिल पानी में प्रवाहित करें।

यह भी पढ़ें-
Sawan Month Shiva Puja Vidhi: भगवान शिव की पूजा में क्यों वर्जित है शंख? जानिए क्या है वजह
Hariyali Teej 2024: इस साल कब मनाई जाएगी हरियाली तीज जानिए सही तिथि और शुभ मुहूूर्त
First Wedding Invitation: सबसे पहले किसे दिया जाता है शादी का कार्ड, जानिए
विज्ञापन