विज्ञापन
Home  astrology  vastu  chanakya niti remember these 5 things of acharya chanakya in difficult times

Chanakya Niti: मुश्किल वक्त में याद रखें आचार्य चाणक्य की ये 5 बातें? हर राह हो जाएगी आसान

जीवांजलि धर्म डेस्क Published by: निधि Updated Thu, 13 Jun 2024 05:13 PM IST
सार

Chanakya Niti: आचार्य चाणक्य चंद्रगुप्त मौर्य के गुरु थे। उन्हें एक महान विद्वान और विद्वान कहा जाता है। आचार्य चाणक्य ने एक नीति की रचना की है जिसे चाणक्य नीति के नाम से जाना जाता है।

Chanakya Niti
Chanakya Niti- फोटो : jeevanjali

विस्तार

Chanakya Niti: आचार्य चाणक्य चंद्रगुप्त मौर्य के गुरु थे। उन्हें एक महान विद्वान और विद्वान कहा जाता है। आचार्य चाणक्य ने एक नीति की रचना की है जिसे चाणक्य नीति के नाम से जाना जाता है। चाणक्य नीति आपको अपने जीवन में कुछ भी हासिल करने में मदद करती है। अगर आप चाणक्य नीति को पूरा पढ़ते हैं और उसका पालन करते हैं, तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता। साथ ही आप कभी किसी धोखे का शिकार नहीं होंगे और जीवन में हमेशा सफलता प्राप्त करेंगे। आचार्य चाणक्य ने अपनी नीति में कई ऐसी बातें बताई हैं, जो व्यक्ति का सही मार्गदर्शन करती हैं। चाणक्य नीति में कहा गया है कि व्यक्ति को संकट के समय हमेशा पांच बातों का ध्यान रखना चाहिए। ये पांच बातें इस प्रकार हैं...
विज्ञापन
विज्ञापन

मुसीबत के समय सावधान रहना जरूरी 

चाणक्य नीति के अनुसार, व्यक्ति को मुसीबत के समय सावधान रहना चाहिए, क्योंकि संकट के समय व्यक्ति के पास अवसर सीमित होते हैं और चुनौतियां बड़ी होती हैं। ऐसे में छोटी सी गलती बड़ा नुकसान करा सकती है, इसलिए सावधानी बहुत जरूरी है।

ठोस रणनीति की जरूरत

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि संकट से उबरने के लिए व्यक्ति को ठोस रणनीति की जरूरत होती है। जब व्यक्ति संकट से उबरने के लिए रणनीति बनाता है तो वह उस नीति के अनुसार कदम दर कदम काम करता है और अंत में विजय प्राप्त करता है। वहीं दूसरी ओर आपातकालीन स्थिति में जिनके पास कोई रणनीति नहीं होती है उन्हें नुकसान उठाना पड़ता है। इसलिए संकट के समय व्यक्ति को सतर्क रहना चाहिए।
विज्ञापन

परिजनों की सुरक्षा का ध्यान

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि संकट के समय व्यक्ति का पहला कर्तव्य परिवार के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभाना होना चाहिए। साथ ही परिवार के सदस्यों की सुरक्षा का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए। ऐसा करने से आप किसी भी मुसीबत से बाहर निकल सकते हैं।

 सबसे बड़ी पूंजी सेहत का रखें ध्यान

चाणक्य नीति के अनुसार व्यक्ति को सबसे पहले अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहिए, क्योंकि यही आपकी सबसे बड़ी पूंजी है। अगर आपका स्वास्थ्य अच्छा है, तो आप हर वो प्रयास कर पाएंगे जो आपको मुसीबत से बाहर निकाल सकता है। आप अपनी मानसिक और शारीरिक शक्ति से चुनौतियों पर काबू पाने में सफल हो सकते हैं।

धन की बचत

व्यक्ति को संकट के समय के लिए धन की बचत करनी चाहिए। यदि आपके पास अच्छा धन प्रबंधन है तो आप बड़े से बड़े संकट से भी पार पाने में सफल हो सकते हैं, क्योंकि संकट के समय धन ही सच्चा मित्र होता है। संकट के समय धन की कमी वाले व्यक्ति के लिए संकट से उबरना बहुत मुश्किल हो जाता है।
विज्ञापन